Home » इंडिया » Subramanian Swamy will debate Asaduddin Owaisi in Delhi on Hindutva related issues
 

देश के दो बड़े विवादित नेताओं ओवैसी और स्वामी के बीच आज हिंदुत्व पर बहस

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2016, 13:06 IST
(फाइल फोटो)

बीजेपी नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी और एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी के बीच आज दिल्ली में हिंदुत्व के मुद्दे पर बहस होने वाली है.

स्वामी ने ट्वीट करते हुए इस बारे में जानकारी दी है. एक निजी समाचार चैनल के कार्यक्रम में दोनों नेताओं के बीच चर्चा होगी. दोनों ही नेताओं को विवादित बयानों के लिए जाना जाता है.

स्वामी ने ट्वीट किया, "आज दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मैं असदुद्दीन ओवैसी के साथ हिंदुत्व से जुड़े मुद्दों पर बहस करूंगा."

विवादों से दोनों नेताओं का नाता

हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी अपने विवादित भाषणों के लिए चर्चित रहे हैं. एक बार उन्होंने कहा था कि अगर कोई उनके गले पर छुरी भी रख देगा फिर भी वे भारत माता की जय नहीं कहेंगे. उनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी भी विवादित बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहते हैं.

इसके साथ ही बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का भी विवादों से पुराना नाता है. कभी वे सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ मुहिम छेड़ते हैं, तो कभी राम मंदिर से जुड़े सवालों पर बयान देते रहते हैं. एक बार फिर स्वामी का राम मंदिर के मुद्दे पर बयान सामने आया है.

स्वामी ने कहा है कि वे राम मंदिर बनाने को लेकर जल्द ही कुछ बड़ा करने वाले हैं. उन्होंने कहा कि वे पीएम मोदी को विकास के साथ-साथ हिन्दुत्व को भी आगे बढ़ाने के लिए कहेंगे. स्वामी ने कहा कि राम मंदिर बन गया तो बीजेपी चुनाव जीत जाएगी.

'अखिलेश को फैसले लेने की आजादी मिले'

बीजेपी सांसद ने साथ ही यादव परिवार में मचे घमासान पर निशाना साधा. उन्होंने महाभारत की मिसाल देते हुए कहा कि भगवान कृष्ण महाभारत की लड़ाई खत्म होने के बाद जब द्वारका लौटे, तो उन्होंने यादवों की आपसी लड़ाई देखकर कहा था कि यादवों को समाप्त कर देना चाहिए.

मुलायम सिंह को भी अब धृतराष्ट्र और भीष्म पितामह की भूमिका से बाहर आना चाहिए और यादव परिवार को नष्ट होने से बचाना चाहिए. उन्होंने कहा कि अखिलेश पढ़े-लिखे मुख्यमंत्री हैं. इसलिए उन्हें फैसले लेने के अधिकार देने चाहिए और शिवपाल यादव को संगठन की जिम्मेदारी देनी चाहिए.

First published: 17 September 2016, 13:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी