Home » इंडिया » Google CEO in India, discussed future plans & developments
 

गूगल देश के कुल 400 स्टेशनों को वाई-फाई बनाएगी: सुंदर पिचाई

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 16 December 2015, 20:52 IST
QUICK PILL
  • दो दिन की भारत यात्रा पर पहुंचे गूगल सीईओ सुंदर पिचाई ने दिल्ली के होटल पुलमैन में एक समारोह में भविष्य की योजनाअों को साझा किया.
  • गूगल देश के कुल 400 स्टेशनों को वाई-फाई बनाएगी. बताया जा रहा है कि यह दुनिया में सबसे बड़ी सार्वजनिक वाई-फाई परियोजनाओं में से एक है. 

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई दो दिन की यात्रा पर भारत आए हैं. बुधवार को पिचाई ने कहा कि गूगल भारत में अपने नए प्रोडक्ट बनाने के लिए हैदराबाद के ऑफिस में नए परिसर का निर्माण करेगी. इसके लिए नए कर्मचारियों की भर्ती की जाएगी.

बुधवार को दिल्ली के होटल पुलमैन में आयोजित एक समारोह के दौरान सुंदर पिचाई ने बताया कि गूगल ने भारत में रेलटेल के साथ करार किया है. इससे एक साल (दिसंबर 2016) में भारतीय रेलवे के 100 स्टेशनों को वाई-फाई बनाया जाएगा. मुंबई पहला वाई-फाई रेलवे स्टेशन बनेगा. इसके बाद गूगल देश के कुल 400 स्टेशनों को वाई-फाई बनाएगी. यह दुनिया की सबसे बड़ी सार्वजनिक वाईफाई परियोजनाओं में से एक होगी. 

उन्होंने यह भी कहा कि भारत में इतनी तादाद में इंटरनेट यूजर्स के बावजूद देश के ग्रामीण हिस्सों में इसकी पहुंच नहीं है. इसके लिए गूगल कई टेलीकॉम कंपनियों के साथ मिलकर प्रोजेक्ट लून शुरू करेगा. 

क्रिकेट मैचों के स्कोर रियल टाइम देखे जा सकें. इसके लिए अगले साल नई सेवा लॉन्च की जाएगी

इसके अंतर्गत बड़े-बड़े गुब्बारों के जरिये ग्रामीण भारत को इंटरनेट से जोड़ा जा सकेगा. गूगल के मुताबिक एक बैलून (गुब्बारे) के जरिये करीब 40 किलोमीटर परिधि के क्षेत्र को वायरलेस कम्यूनिकेशन तकनीक (4जी) से जोड़ा जाएगा. 

दुनिया भर में 2 अरब लोग इंटरनेट इस्तेमाल करते हैं. जबकि 4 अरब लोगों तक इसकी पहुंच नहीं है.उन्होंने ऐसी सेवा के बारे में भी जानकारी दी जिससे क्रिकेट मैच के स्कोर रियल टाइम में देखे जा सकें. इसके लिए अगले साल नई सेवा लॉन्च की जाएगी. 

पढ़ेः साइबरक्राइम में भारतीयों को लगा 1,82,000 हजार करोड़ रुपए का चूना

वहीं, आधी आबादी के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि गूगल भारतीय महिलाओं को इंटरनेट से जोड़ने के लिए भी प्रयासरत है. इसके लिए सबसे पहले 300,000 गांवों को अगले तीन साल में इंटरनेट से जोड़ा जाएगा. इसे कंपनी ने बाइस्किल फॉर वीमेन प्रोग्राम का नाम दिया है. 

इतना ही नहीं अगले साल लॉन्च की जाने वाली टेप टू ट्रांसलेट सुविधा से कोई भी लिखित भाषा आसानी से अनुवादित की जा सकेगी. इंटरनेट को न केवल ऑनलाइन बल्कि ऑफलाइन भी एक्सेसबल बनाने के लिए भी काम किया गया है. जिसके जरिये गूगल मैप्स और यूट्यूब का ऑफलाइन भी इस्तेमाल किया जा सकता है. 

गूगल 20 लाख से ज्यादा एंड्रॉयड डेवलपर्स को प्रशिक्षित करने के लिए नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) के साथ मिलकर हैदराबाद में एक नया प्रशिक्षण कार्यक्रम भी लॉन्च करेगी

पिचाई की बातों से यह भी साफ हुआ कि भारत में इंटरनेट का भविष्य उज्ज्वल है. इसलिए भविष्य की जरूरतों और तकनीकी को ध्यान में रखते हुए प्रोडक्ट डेवलपमेंट की जरूरत होगी. इसके लिए हैदराबाद स्थित गूगल ऑफिस में एक नए परिसर का निर्माण किया जाएगा. जाहिर है उसमें काम करने के लिए नए कर्मचारियों की आवश्यकता होगी और उनकी भर्तियां होंगी. 

New Google Logo

इसके अलावा गूगल 20 लाख से ज्यादा एंड्रॉयड डेवलपर्स को प्रशिक्षित करने के लिए नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) के साथ मिलकर हैदराबाद में एक नया प्रशिक्षण कार्यक्रम भी लॉन्च करेगी. 

दरअसल, भारत में तेजी से बढ़ते एंड्रॉयड मोबाइल यूजर्स की संख्या के चलते 2016 में यह अमेरिका को पीछे छो़ड़ देगा. 

इस वर्ष अगस्त में गूगल के सीईओ का पदभार संभालने के बाद पहली विदेश यात्रा पर निकले सुंदर सबसे पहले भारत पहुंचे. भारत यात्रा के दौरान चेन्नई में पैदा होने वाले सुंदर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिलेंगे.

First published: 16 December 2015, 20:52 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी