Home » इंडिया » super wednesday for supreme court of tree Verdict over Aadhaar, Live streaming of court and Reservation in Promotion
 

Super Wednesday: SC के एक दिन में 3 बड़े फैसले, कोर्ट की कार्यवाही के प्रसारण को दी मंजूरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 September 2018, 17:07 IST
(File Photo )

सुप्रीम कोर्ट के बड़े फैसलों के लिहाज से बुधवार का दिन बहुत खास रहा. देश की सबसे बड़ी अदालत ने आज (बुधवार) तीन बड़े मामलों में अपना फैसला सुनाया है. जिसमें प्रमोशन में आरक्षण, आधार कार्ड की संवैधानिक वैधता और सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही की सीधे प्रसारण की अनुमति को लेकर अपना फैसला सुनाया है.

ये तीनों फैसले ही काफी अहम माने जा रहे थे. इन तीनों फैसलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट में काफी दिनों से सुनवाई चल रही थी. सभी को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार था. जो आज आ गया है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले से कई बातें साफ हो गई हैं. आइए जानते सुप्रीम कोर्ट के तीनों फैसलों में क्या कहा गया है.

1. प्रमोशन में आरक्षण

सबसे पहला बड़ा फैसला सुप्रीम कोर्ट ने प्रमोशन में आरक्षण को लेकर सुनाया. सुप्रीम कोर्ट ने सीधे तौर पर प्रमोशन में आरक्षण देने को खारिज नहीं किया है. प्रमोशन में आरक्षण देने न देने का फैसला राज्यों पर छोड़ दिया है. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार की उस अर्जी को खारिज कर दिया है जिसमें एससी एसटी को आरक्षण दिए जाने में उनकी कुल आबादी पर विचार करने की बात कही गई.

2. आधार की संवैधानिक वैध्यता

सुप्रीम कोर्ट का दूसरा फैसला आधार की संवैधानिक वैध्यता को लेकर आया. इसमें सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में आधार की संवैधानिकता को बरकरार रखा है. हालांकि कई चीजों में आधार की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि कहां पर आधार का उपय़ोगल जरूरी होगा और कहां नहीं होगा. सुप्रीम कोर्ट ने स्कूल में बच्चों के दाखिले के लिए आधार की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है. इसके अलावा मोबाइल नंबर के लिए भी आधार जरूरी नहीं होगा.

3. कोर्ट की कार्यवाही का लाइव प्रसारण

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को तीसरा सबसे बड़ा फैसला कोर्ट की कार्यवाही के लाइव प्रसारण को लेकर सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने अदालत की कार्यवाही के सीधे प्रसारण की अनुमति दे दी है. इसकी शुरुआत सुप्रीम कोर्ट करने की बात कही गई है. लाइव प्रसारण को लेकर फैसला चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने दिया. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि लाइव स्ट्रीमिंग से अदालत की कार्यवाही में पारदर्शिता आएगी और यह जनहित में होगा.

ये भी पढ़ें- अब UGC, NEET, और CBSE परीक्षाओं में नहीं देना होगा आधार, जानें SC के फैसले के बाद कहां लगेगा आधार कार्ड

First published: 26 September 2018, 17:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी