Home » इंडिया » Supreme Court adjourns hearing on Article 35A in jammu and kashmir
 

कश्मीर: अनुच्छेद 35A पर टली सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई, अब 27 अगस्त को होगी सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 August 2018, 14:33 IST

सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को संविधान के अनुच्छेद 35A को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई की गई. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में याचिकाकर्ताओं से सवाल पूछने के बाद सुनवाई की अगली तारीख 17 अगस्त तक टाल दी है. अगली सुनवाई में यह तय होगा कि क्या क्या इस मामले की सुनवाई संविधान पीठ करेगी या नहीं.

बता दें कि संविधान के अनुच्छेद 35A के अनुसार जम्मू कश्मीर में किसी दूसरे राज्य का व्यक्ति अचल संपत्ति नहीं खरीद सकता है. दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35A पर सुनवाई का जम्मू कश्मीर में अगगाववादी संगठनों ने विरोध किया. अलगाववादी संगठनों ने आज लगातार दूसरे दिन जम्मू-कश्मीर में बंद का ऐलान किया. रविवार को भी राज्य में कई जिलों में प्रदर्शन हुए. सुरक्षा को देखते हुए भारी सुरक्षाबल की तैनाती की गई. इसके साथ ही दो दिन के लिए अमरनाथ यात्रा को भी रोक दिया गया था.

मीडिया खबरों के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस दीपक मित्रा ने याचिकाकर्ता से सवाल करते हुए पूछा कि क्या ये मामला संविधान पीठ में जाना चाहिए या नहीं. हमको तय करना होगा कि क्या इस मामले को पांच जजों की बेंच के पास भेजा जाना चाहिए या नहीं. इसे दो हफ्ते बाद तय कर सकते हैं. इसको तीन जजों की कमेटी तय करेगी.

वहीं, सरकार की तरफ से अपना पक्ष रखते हुए ASG तुषार मेहता ने कोर्ट में राज्य में होने वाले पंचायत चुनाव का हवाला देते हुए कुछ समय की मांग की. दूसरी तरफ नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कहा कि अभी राज्य में कोई भी सरकार नहीं है. आररएसएस से जुड़े राज्य के एनजीओ ‘वी द सिटीजन’ ने अनुच्छेद 35 ए के खिलाफ सुनवाई संविधान पीठ में किए जाने की मांग की है. संस्था ने सुनवाई स्थगित नहीं किए जाने की भी मांग की है.

बता दें कि संविधान पीठ की सिफारिश के लिए कम से कम तीन जजों का होना जरूरी है. जस्टिस चंद्रचूड़ अभी छुट्टी पर हैं. जिसके चलते केवल दो जज ही हैं. इसलिए इसका फैसला अभी नहीं किया जा सकता है. इस मामले की अगली सुनवाई अब अगस्त के आखिरी हफ्ते (27 अगस्त) को होगी.

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में अलगाववादी संगठन संविधान के अनुच्छेद 35A को दी गई चुनौती पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई का विरोध कर रहे है. इसके विरोध में अलगाववादियों ने दो दिन का बंद का आह्वान किया था. रविवार को राज्य में कई जगह प्रदर्शन भी देखने को मिले. इसको देखते हुए प्रशासन ने राज्य में भारी संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है. इसके अलावा प्रशासन ने एहतियातन अमरनाथ यात्रियों को भगवती बेस कैंप में रोक दिया. जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर स्पेशल चेप पोस्ट बनाए गए. बता दें कि 28 जून से अब तक 2.71 लाख श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन कर चुके हैं.

ये भी पढें- जम्मू-कश्मीर: धारा 35A पर SC में सुनवाई के विरोध में घाटी बंद, क्या हट जाएगा कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा?

First published: 6 August 2018, 12:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी