Home » इंडिया » Supreme Court agrees to hear plea seeking review of Rafale verdict
 

राफेल पर फिर फैसला सुना सकता है सुप्रीम कोर्ट, समीक्षा याचिका हुई मंजूर

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 February 2019, 12:11 IST

सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को राफेल मामले में अपने फैसले की समीक्षा करने की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने राफेल फाइटर जेट सौदे पर 14 दिसंबर के सुप्रीम कोर्ट के फैसले की समीक्षा करने के लिए शीर्ष अदालत का रुख किया था. याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया गया था कि अदालत ने केंद्र द्वारा किए गए गलत दावों की आधार पर फैसला सुनाया था.

प्रशांत भूषण ने आज सुप्रीम कोर्ट से कहा कि वह याचिका पर सुनवाई करे और राफेल के फैसले की समीक्षा करे. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा, "मामले की लिस्टिंग के लिए कुछ करेंगे क्योंकि एक बेंच का गठन किया जाना है." चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई, जस्टिस एसके कौल और केएम जोसेफ की पीठ ने पहले सभी चार याचिकाओं को खारिज कर दिया था, जिसमें अदालत ने निगरानी की जांच की मांग करते हुए कहा था कि मूल्य निर्धारण और ऑफसेट के चयन के लिए इस प्रक्रिया पर संदेह नहीं किया जाना चाहिए.

न्यायाधीशों ने कहा "हमें यह दिखाने के लिए रिकॉर्ड पर कोई ठोस सामग्री नहीं मिली है कि यह भारत सरकार द्वारा किसी भी पार्टी के लिए व्यावसायिक पक्षपात का मामला है, क्योंकि IOP (भारतीय ऑफसेट साथी) चुनने का विकल्प भारत सरकार के पास नहीं है."

इस महीने की शुरुआत में भारतीय वायु सेना में पूंजीगत अधिग्रहण पर एक कैग की रिपोर्ट, जिसे राज्यसभा में पेश किया गया था, ने कहा था कि NDA सरकार द्वारा किया गया राफेल सौदा यूपीए की बातचीत से 2.86 प्रतिशत सस्ता है. 

ऋणदाताओं को क्यों लगने लगा है कि अनिल अंबानी के पास उनके पैसे अब फंस चुके है ?

First published: 21 February 2019, 11:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी