Home » इंडिया » Supreme Court allows 13 year old Mumbai rape victim girl, 31 weeks pregnant, to abort foetus.
 

सुप्रीम कोर्ट: 13 साल की रेप पीड़ित बच्ची को मिली गर्भपात की इजाज़त

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 September 2017, 17:56 IST

मुंबई की 13 साल की रेप पीड़ित नाबालिग को सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात कराने की इजाजत दे दी है. कोर्ट ने कहा है कि मुंबई के जेजे अस्पताल में नाबालिग का 8 सितंबर को गर्भपात होगा. देश में यह पहला मामला है जिसमें 31 हफ्ते के गर्भ का गर्भपात कराने की इजाजत दी गई है.

 

गर्भपात के लिए कोर्ट ने पीड़िता को गुरुवार को अस्पताल में भर्ती कराने का आदेश दिया है. मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि एक 13 साल की पीड़िता कैसे मां बन सकती है? कोर्ट ने ये आदेश पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद दिया है.

 

इससे पहले जेजे अस्पताल के पैनल की रिपोर्ट में कहा गया था कि बच्ची का गर्भपात किया जा सकता है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि अगर बच्चे की डिलीवरी होती है या गर्भपात होता है तो जोखिम एक समान है. . एक सितम्बर को पीड़ित का मेडिकल परीक्षण हुआ था.

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई स्थित सर जेजे ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के मेडिकल बोर्ड को गर्भपात के लिए परीक्षण कर रिपोर्ट देने को कहा था

गौरतलब है कि मुंबई निवासी पीड़िता की मां ने रेप पीड़ित अपनी बच्ची का गर्भपात कराने की अर्जी दाखिल की थी. भारतीय कानून के अनुसार, 20 माह से ज्यादा के गर्भ का गर्भपात उसी स्थिति में होता है अगर मां को जान का खतरा हो.

First published: 6 September 2017, 17:56 IST
 
अगली कहानी