Home » इंडिया » Supreme court decision on Aadhaar Card validity and other important cases
 

SC में आज फैसलों का दिन, आधार और प्रमोशन समेत कई बड़े मुद्दों पर आएगा निर्णय

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 September 2018, 11:19 IST
(File Photo)

सुप्रीम कोर्ट में आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है. आज सुप्रीम कोर्ट देश के 6 बड़े मामलों पर एक साथ फैसला सुनाएगी. इन मामलों में मुख्यतः आधार कार्ड की अनिवार्यता और प्रमोशन में आरक्षण जैसे अहम मुद्दे हैं.

आज देश की सर्वोच्च अदालत में सरकारी नौकरी में आरक्षण के आधार पर प्रमोशन मामले में 5 जजों की संविधान पीठ फैसला सुनाएगी. इस मामले में पीठ ये तय करेगी कि सुप्रीम कोर्ट के 12 साल पुराने नागराज फैसले पर पुनर्विचार किया जाये या नहीं. यदि पीठ का इस पुराने फैसले पर पुनर्विचार का निर्णय लेती है तो इस मामले में फिर 7 जजों की बेंच सुनवाई करेगी. सरकारी नौकरियों में प्रमोशन में आरक्षण मामले में सुप्रीम कोर्ट की सविधान पीठ ने 30 अगस्त को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था.

देश में सबसे बड़ा मुद्दा बन चुका आधार कार्ड अनिवार्यता मामले में भी सुप्रीम कोर्ट में आज ही फैसला सुनाया जाएगा. इस मामले में भी कोर्ट ने सुनवाई पूरी करके अपना फैसला 10 मई को ही सुरक्षित कर लिया था. 17 जनवरी को शुरू हुई इस मामले की सुनवाई कुल 38 दिनों तक चली थी. आधार की अनिवार्यता व्यक्ति की निजता का उल्लंघन करती है या नहीं इस मामले में 5 जजों की संवैधानिक पीठ फैसला सुनाएगी. आधार की अनिवार्यता और निजता के मौलिक अधिकार उल्लंघन मामले में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड और जस्टिस अशोक भूषण के 5 जजों की संवैधानिक पीठ ने इस मामले की सुनवाई की.

दागी नेताओं पर SC का बड़ा फैसला- चुनाव प्रचार में जनता को नेता दें अपने क्रिमिनल रिकॉर्ड की जानकारी

आज ही गुजरात से राज्यसभा सासंद अहमद पटेल की याचिका पर भी सुप्रीम कोर्ट का फैसला आएगा. हालांकि पिछली सुनवाई में गुजरात हाईकोर्ट में उनके खिलाफ चल रही बीजेपी उम्मीदवार बलवंत सिंह राजपूत की चुनाव याचिका की सुनवाई पर रोक लगा दी थी. बीजेपी उम्मीदवार ने पटेल पर आरोप लगाया है कि चुनाव उन्होंने गलत तरीकों से जीता है. बीजेपी उम्मीदवार ने आरोप लगाया कि विधायकों को बेंगलुरु के होटल में बंद कर के रखा था.

राष्ट्रीय महत्व के मामलों की लाइव स्ट्रीमिंग पर भी आज सर्वोच्च अदालत अपना फैसला सुनाएगी. ओपन कोर्ट और पारदर्शिता के सिद्धांत को लागू करने के लिए देश के बड़े और राष्ट्रीय हित के मुद्दों की लाइव स्ट्रीमिंग की बात का प्रस्ताव रखा गया है. जनता के बीच फसलों को लेकर पारदर्शिता बढ़ाने के लिए ऐसा किया जाने का विचार प्रस्तावित किया गया था. इस मामले में केंद्र सरकार की तरफ से एटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सर्वोच्च न्यायलय में गाइडलाइन दाखिल की हैं.

इसी के साथ आज सुप्रीम कोर्ट जज लोया केस में ही अपना अहम फैसला सुनाएगी. इस केस में दाखिल पुनर्विचार याचिका पर कोर्ट फैसला सुनाएगी जिसमे वकील इंदिरा जयसिंह ने सुप्रीम कोर्ट की तीखी टिप्पणियों को हटाने की मांग की है. सुप्रीम कोर्ट ने इस पुनर्विचार याचिका पर 9 जुलाई को फैसला सुरक्षित रखा था.

महाराष्ट्र भूमि अधिग्रहण मामले में किसानों के साथ आया जापान, रोकी बुलेट ट्रेन की फंडिंग

एक अन्य मामले में सुप्रीम कोर्ट आज फैसला देगी. कोर्ट आज ये तय करेगी की आपराधिक मामले में अदालत से दोषी करार किये जाने के बाद किसी विधायक या सांसद से उसकी कुर्सी छीनने का आदेश चुनाव आयोग देगा या फिर सम्बंधित सदन का सचिव. अभी ये अधिकार सचिव के पास है लेकिन याचिका में कहा गया है की राजनितिक प्रभाव के चलते कुर्सी से हटाने के फैसले को लेकर सचिव देरी करते हैं इसलिए ये फैसला करने का अधिकार भी चुनाव आयोग के पास होना चाहिए.

First published: 26 September 2018, 7:59 IST
 
अगली कहानी