Home » इंडिया » Supreme Court directs that mid-day meal in schools should be given throughout summer season in drought affected areas
 

सुप्रीम कोर्ट: सूखाग्रस्त इलाकों में गर्मी के पूरे सीजन में मिड-डे मील मिले

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 May 2016, 12:53 IST
QUICK PILL

सुप्रीम कोर्ट ने सूखे के संकट को लेकर दाखिल एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा कि सूखाग्रस्त इलाकों में गर्मी के पूरे सीजन के दौरान स्कूली बच्चों को मिडडे मील मुहैया कराया जाना चाहिए.

सुनवाई के दौरान अदालत ने ये भी निर्देश दिए कि केंद्र सरकार जल्द से जल्द महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण योजना का बकाया पैसा जारी करे, जिससे प्रभावित इलाकों में लोगों को रोजगार मुहैया हो सके.
supreme court mid day
पीआईएल पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिए कि आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत जारी पैसे को जल्द से जल्द बांटा जाए, जिससे जिन किसानों की फसलों को नुकसान हुआ है, उन्हें फौरी तौर पर मदद मिल सके.

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा, "केंद्र फंड की कमी का बहाना बनाकर हालात से मुंह मोड़ नहीं सकता, उसे फौरन मनरेगा के तहत जरूरी पैसा मुहैया कराना चाहिए."
supreme court mid day2
पढ़ें: बुंदेलखंडः एमपी हो या यूपी, सूखा पीड़ितों की दुर्दशा एक जैसी

एंप्लायमेंट गारंटी काउंसिल बने


साथ ही अदालत ने कहा कि सेंट्रल एंप्लायमेंट गारंटी काउंसिल की भी स्थापना होनी चाहिए, जिसके बारे में मनरेगा एक्ट में सलाह दी गई है.

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्देशों पर अमल के लिए कोर्ट कमिश्नर नियुक्त करने से इनकार कर दिया.

देश के तेरह राज्यों के करीब 33 करोड़ लोग सूखे के संकट का सामना कर रहे हैं. सबसे बुरे हालात महाराष्ट्र के मराठवाड़ा, विदर्भ और उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके में हैं.

पढ़ें: सूखे के सरकारी आंकड़े ही सिहरन पैदा करने के लिए काफी हैं

First published: 13 May 2016, 12:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी