Home » इंडिया » Supreme Court orders e ticket holder railway passengers could travel with waiting ticket
 

बड़ी खुशखबरी: ऑनलाइन टिकट कंफर्म न होने पर भी यात्रा से नहीं रोक सकेगा रेलवे

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 June 2018, 16:41 IST

रेलवे में ऑनलाइन टिकट लेने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी सामने आई है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब जिन यात्रियों के पास रेलवे का ऑनलाइन टिकट कंफर्म नहीं होगा उन्हें भी रेलवे यात्रा से नहीं रोक पाएगा. रेलवे के एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने ये अहम फैसला दिया है.

इस फैसले के तहत अगर किसी भी रेल यात्री के पास ई-टिकट है और उसका नाम वेटिंग लिस्ट में शामिल है, तो उन्हें भी ट्रेन में यात्रा करने का मौका मिल सकता है. हालांकि कोर्ट के इस फैसले के बाद रेलवे ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

 

बता दें कि साल 2014 में एक याचिका दायर की गई थी. विभास कुमार झा द्वारा दायर की गई एक याचिका में कहा गया था कि काउंटर टिकट धारकों की तरह वेटिंग ई-टिकट वालों का टिकट कैंसिल नहीं होना चाहिए.

दरअसल रेलवे के नियम के अनुसार वेटिंग ई-टिकट वालों को ट्रेन मे चढ़ने की इजाज़त नहीं होती थी. इसके अलावा जो लोग काउंटर से टिकट खरीदते थे उनका वेटिंग होने पर उन्हें ट्रेन में यात्रा करने का मौका मिल जाता था. रेलवे के इस नियम से ऑनलाइन टिकट धारकों को खासा मुश्किलों का सामना करना पड़ता था.

इसी याचिका के जवाब में दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि काउंटर टिकट धारकों की तरह वेटिंग वाले ई-टिकट वालों का भी टिकट कैंसिल नहीं होना चाहिए. फिर दिल्ली हाईकोर्ट के इस फैसले के खिलाफ रेलवे ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी.

पढ़ें- प्रणब मुखर्जी ने नहीं मानी कांग्रेस के नेताओं की बात, कहा- RSS कार्यक्रम में जाकर दूंगा जवाब

अब इसे सुप्रीम कोर्ट द्वारा खारिज कर दिया गया है. कोर्ट ने रेलवे को आदेश दिया है कि वह जल्द ही ऐसा प्लान बनाए, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि फर्जी नामों से टिकट बुक कराने वाले एजेंट्स पर रोक लगायी जा सके, ताकि बाद में ये सीटें वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों को ज्यादा पैसे लेकर दी जा सकें.

First published: 3 June 2018, 15:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी