Home » इंडिया » supreme court: please No any speech for subrata roy bail
 

सुप्रीम कोर्ट: सुब्रत राय की रिहाई के लिए हमें भाषण मत दीजिए

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 March 2016, 13:38 IST

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सुब्रत राय के मामले में सुनवाई करते हुए उनकी ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल से उस समय नाराजगी जताई जब सिब्बल ने निवेशकों का धन नहीं लौटाने पर सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय को जेल भेजे जाने के न्यायालय के अधिकार पर सवाल खड़े किये.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक चीफ जस्टीस टीएस ठाकुर ने सिब्बल से कहा कि आपके क्लाइंट इस अदालत के आदेश पर जेल में हैं. यह आदेश सही या गलत हो सकता है लेकिन हम इस आदेश की अपील पर सुनवाई नहीं कर रहे हैं. केवल एक ही रास्ता है जिससे सुब्रत राय जेल से बाहर आ सकते हैं औप वह यह है कि राय कोर्ट के आदेश का पालन करें.'

सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल सुब्रत रॉय की ओर से पेश हुये थे. कोर्ट की यह प्रतिक्रिया तब आई जब सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट की शक्तियों और अधिकारों को लेकर सवाल उठाया और कहा कि 'कानून और सच्चाई सहारा की तरफ हैं. दुनिया में कहीं भी इस तरह व्यक्ति को जेल में नहीं रखा जाता है. आखिर किस अधिकार क्षेत्र के तहत कोर्ट ने सुब्रत राय को इतने दिनों से जेल में रखा है. जबकि सेबी की अवमानना याचिका पर अभी फैसला आना बाकी है.'

पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट: सहारा समूह की संपत्ति बेचकर निवेशकों की रकम लौटाए सेबी

सिब्बल के दलील पर कोर्ट ने सख्त लहजे में कहा कि 'इस विषय पर हमने कई वकीलों को सुना है. इस मामले में कई वकील आये और चले गये. कोर्ट ने कभी भी आपको कानूनी जिरह करने से नहीं रोका है, लेकिन आप तथ्यों पर जिरह करें. इस मामले पर हमें भाषण न दें. दुनिया में कहीं भी कोई व्यक्ति यह नहीं कहता कि मेरे पास 1,87,000 करोड़ रुपए की संपत्ति है. मैं कभी भी भुगतान कर सकता हूं लेकिन 10,000 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं कर सकता.'

इसके बाद सिब्बल ने कोर्ट से कहा कि सहारा समूह संपत्ति बेचने में मुश्किलों का सामना कर रहा है. बाजार में मंदी है, जिसका वजह से संपत्ति के खरीदार नहीं मिल रहे हैं. इसके बाद कोर्ट ने कहा कि 'अगर आपके क्लाइंट संपत्ति बेचने में असमर्थ हैं, तो फिर हम रिसीवर नियुक्त कर सकते हैं. हमारी ओर से इस समस्या का यही समाधान है. उन्हें बेचो और जो धन आता है वह आने दो.'

इसके बाद जब कपिल सिब्बल ने कोर्ट से सुब्रत रॉय को संपत्ति बेचने के लिए तिहाड़ जेल में संचार और अन्य सुविधायें उपलब्ध कराने की अपील की तो कोर्ट ने कहा कि 'किसलिये ?, अभी तो आप कह रहे हैं कि बाजार की हालत ठीक नहीं है और कोई खरीदार नहीं मिल रहा है.'

गौरतलब है कि कल भी सुप्रीम कोर्ट ने सहारा मामले की सुनवाई करते हुए सेबी से कहा है कि वो सहारा की अचल संपत्तियों को बेचकर लाखों निवेशकों की रकम लौटाने की प्रक्रिया शुरू करे. कोर्ट के द्वारा यह फैसला तब सुनाया गया, जब सहारा समूह की ओर से कई बार संपत्ति बेचकर निवेशकों की रकम चुकाने की समय सीमा खत्म हो चुकी है.

कोर्ट ने सेबी से उन संपत्तियों को बेचने को कहा है जिनकी टाइटल डीड सेबी के पास जमा है.

First published: 30 March 2016, 13:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी