Home » इंडिया » Supreme Court raised these questions on the decision of the UP government to allow Kanwar Yatra
 

Kanwar Yatra 2021: कांवड़ यात्रा को अनुमति देने के यूपी सरकार के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने उठाये ये सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 July 2021, 13:59 IST

Kanwar yatra 2021 : कोरोना वायरस महामारी के बीच कांवड़ यात्रा की अनुमति देने के यूपी सरकार के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को नोटिस जारी किया है. मामले को स्वत: संज्ञान लेते हुए अदालत ने कहा कि यात्रा की अनुमति ऐसे समय में दी जा रही थी जब चिकित्सा विशेषज्ञों ने कोविद -19 की संभावित तीसरी लहर के खतरे के रूप में चेतावनी दी है.

उत्तर प्रदेश सरकार के कोरोना वायरस के बीच कांवड़ यात्रा को अनुमति देने के फैसले का सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया. जस्टिस रोहिंटन एफ. नरीमन की अध्यक्षता वाली बेंच ने केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया. कोर्ट इस मामले में 16 जुलाई को सुनवाई करेगा.


इस बीच उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा ''कांवड़ संगठनों से बात कर कांवड़ यात्रा से जुड़ी तैयारियां हो गई हैं. हर साल की तरह इस साल भी 25 तारीख से प्रदेश में कांवड़ यात्रा शुरू होगी. हम सुनिश्चित करेंगे कि कोविड़ नियमों का पालन हो और लोगों की आस्था का भी ध्यान रखा जाएं.

न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर मामले की सुनवाई शुक्रवार की तारीख तय की. योगी आदित्यनाथ सरकार ने मंगलवार को COVID-19 की संभावित तीसरी लहर के बावजूद कांवड़ यात्रा को अनुमति दी है. हालांकि उत्तराखंड सरकार ने मंगलवार को COVID-19 की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए कांवड़ यात्रा रद्द कर दी. यह लगातार दूसरे वर्ष है जब महामारी के कारण यात्रा का आयोजन नहीं किया जा रहा है.

उत्तराखंड CM पुष्कर सिंह धामी ने कहा ''हमने उच्च अधिकारियों के साथ कांवड़ यात्रा के संदर्भ में बातचीत की. ऐसे समय में जब कोविड वैरिएंट प्रदेश में मिला है. इस स्थिति में हम हरिद्वार को कोरोना महामारी का केंद्र नहीं बनाना चाहते इसलिए हमने कांवड़ यात्रा को स्थगित करने का फ़ैसला किया है. 

पंजाब की राजनीति में फिर मचा सियासी तूफान, नवजोत सिंह सिद्धू ने AAP को लेकर किया ऐसा ट्वीट

First published: 14 July 2021, 13:55 IST
 
अगली कहानी