Home » इंडिया » Supreme Court reinstates Alok Verma as CBI Director, cannot take major policy decisions
 

CBI विवाद: मोदी सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने का फैसला किया निरस्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 11:32 IST

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक बड़ा फैसला सुनाते हुए छुट्टी पर भेजे गए सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को बड़ी राहत दी है. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आलोक वर्मा को सीबीआई प्रमुख के पद पर बहाल कर दिया. पीठ ने कहा कि दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना अधिनियम (Delhi Special Police Establishment) के तहत गठित समिति को मामले पर नए सिरे से विचार करना होगा और वर्मा तब तक कोई बड़ा नीतिगत निर्णय नहीं ले सकते.

सुप्रीम कोर्ट ने मामले पर विचार करने के लिए समिति को एक सप्ताह का समय दिया है. वर्मा और उनके नं. 2 के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना दोनों को अक्टूबर में आधी रात के आदेश के बाद पद से मुक्त कर दिया गया था. संयुक्त निदेशक एम नागेश्वर राव को एजेंसी के अंतरिम प्रभारी के रूप में नियुक्त किया गया था. पीठ ने 6 दिसंबर को इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया.

मंगलवार को जस्टिस एसके कौल और केएम जोसेफ ने वर्मा और एनजीओ कॉमन कॉज की याचिका पर सुनवाई के बाद यह फैसला सुनाया.  भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अदालत में उपस्थित नहीं थे, हालांकि वह तीन न्यायाधीशों की पीठ का हिस्सा थे जिन्होंने इस मामले की सुनवाई की थी. 

सुनवाई के दौरान, सरकार ने तर्क दिया कि दोनों अधिकारी लड़ रहे थे, इसलिए उन्हें छुट्टी पर भेजने के अलावा कोई चारा नहीं था. अदालत ने कहा कि सीबीआई के शीर्ष सहयोगियों के बीच झगड़ा तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता से पहले रात भर में नहीं हुआ था. अदालत ने सरकार की जल्दबाजी पर भी सवाल उठाया और पूछा कि मामले में चयन समिति से सलाह क्यों नहीं ली गई.

First published: 8 January 2019, 11:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी