Home » इंडिया » Supreme court save his decision on shahabuddin bail case
 

शहाबुद्दीन के ज़मानत मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फ़ैसला रखा सुरक्षित

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 September 2016, 17:36 IST
(कैच)

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार के बाहुबली नेता और राजद के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को पटना हाई कोर्ट से मिली जमानत को रद्द किए जाने के मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.

सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को जस्टिस पीसी घोष और जस्टिस अमिताव राय की पीठ ने सुनवाई के बाद अपना फैसला शुक्रवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया.

इससे पहले शहाबुद्दीन तथा अन्य लोगों की ओर से पेश हुए वकीलों ने मामले में अपनी अपनी दलीलें पीठ के समक्ष रखीं.

शहाबुद्दीन की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता शेखर नफाडे ने अपने मुवक्किल को जमानत दिए जाने को चुनौती देने वाली अपीलों का विरोध करते हुए कहा कि सामान्य परिस्थितियों में जीवन और छूट के आधार का हनन नहीं किया जाना चाहिए.

कोर्ट ने बुधवार को पटना हाई कोर्ट के सामने अपने तथ्य नहीं रखने के लिए बिहार सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा था ‘क्या उसके जमानत पाने तक आप सोए हुए थे.’

सीवान के चर्चित रोशन हत्याकांड में पटना हाई कोर्ट ने राजद नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन को जमानत दी थी. नीतीश कुमार सरकार के वकील से शीर्ष अदालत ने कड़े सवाल किए थे और शहाबुद्दीन के खिलाफ मामले का अनुसरण करने में गंभीर नहीं रहने के लिए उन्हें फटकार लगाई थी.

नीतीश सरकार में राजद भी सहयोगी दल है. सीवान निवासी चंद्रकेश्वर प्रसाद की तरफ से अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने भी शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की मांग करते हुए बुधवार को कहा था कि उसे जमानत पर रिहा करना न्याय का मजाक है.

चंद्रकेश्वर प्रसाद के तीन पुत्रों की दो अलग अलग घटनाओं में हत्या कर दी गई थी. शहाबुद्दीन की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता शेखर नफाडे ने कहा था कि उनका मुवक्किल मीडिया ट्रायल का शिकार है.

उन्होंने कहा था कि राज्य सरकार को निष्पक्ष होना होगा और व्यक्ति की स्वतंत्रता के साथ खिलवाड़ नहीं किया जा सकता.

First published: 29 September 2016, 17:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी