Home » इंडिया » Supreme Court says police sholud not enter Jagannath Temple with weapons and shoes
 

जगन्नाथ मंदिर हिंसा मामले में SC का फैसला- जूते और हथियार लेकर मंदिर में प्रवेश न करे पुलिस वाले

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2018, 14:54 IST

जगन्नाथ मंदिर में हुई हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गंभीरता दिखाते हुए अपना फैसला सुनाया है. बीते 3 अक्टूबर को मंदिर के भीतर लाइन में लगने को लेकर श्रद्धालुओं में हुई हिंसा मामले में देश की सर्वोच्च अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि पुलिस वाले जूते पहन कर और हथियार लेकर मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं.

दरअसल जगन्नाथ मंदिर जाने वाले भक्तों के लिए एक कतार प्रणाली की शुरूआत की जाने के प्रस्ताव के विरोध में एक सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन ने 12 घंटे का बंद बुलाया था जिसके दौरान हिंसा हो गई थी और इसमें नौ पुलिसकर्मी घायल हो गए थे. गौरतलब है कि मंदिर प्रशासन ने इस कतार प्रणाली को आजमाने के लिए प्रयोगात्मक आधार पर शुरु किया गया था. लेकिन अब इसकी समीक्षा की जाएगी क्योंकि कुछ स्थानीय और बाहरी लोग इस प्रक्रिया के विरोध में हैं.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट जगन्नाथ मंदिर को लेकर दाखिल याचिका पर सुनवाई कर रहा है. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने पूछा था, ''क्या किसी इंसान को दूसरे धर्म के पवित्र स्थल में प्रवेश की इजाजत दी जा सकती है? वो भी जहां की मान्‍यता हो कि गैर धर्म का व्यक्ति धार्मिक स्थल में प्रवेश नहीं कर सकता.''

इस याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने एमिकस गोपाल सुब्रमण्यम से पूछा था, '' क्या किसी धार्मिक स्थल में किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति का प्रवेश प्रतिबंधित किया जा सकता है? क्या उसे प्रवेश की इजाजत दी जा सकती है?'' कोर्ट ने कहा, ''अगर दूसरे धर्म का व्यक्ति ये शपथ दे कि वो धार्मिक स्थल की परंपरा, ड्रेस कोड और ईश्वर का सम्मान करेगा तो क्या उसे धार्मिक स्थल में प्रवेश की इजाजत दी जा सकती है?''

First published: 10 October 2018, 14:54 IST
 
अगली कहानी