Home » इंडिया » Supreme Court slams Microsoft, Google & Yahoo for sex determination advertisement
 

सुप्रीम कोर्ट ने गूगल, याहू और माइक्रोसॉफ्ट को लगाई फटकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST

सुप्रीम कोर्ट ने गूगल, याहू और माइक्रोसॉफ्ट जैसी दिग्गज कंपनियों को प्रसव-पूर्व लिंग निर्धारण परीक्षण से संबंधित विज्ञापनों के कानून का उल्लंघन करने के लिए कड़ी फटकार लगाई है.

इसके साथ ही देश की सर्वोच्च अदालत ने केंद्र सरकार से कहा है कि वो इस मामले में जल्द हस्तक्षेप कर इसे रोकें. अदालत ने सरकार को यह भी निर्देश दिया है कि वो इन कंपनियों और याचिकाकर्ताओं के साथ बैठक करें.

अदालत ने कहा, "क्या यह सर्च इंजन्स कानून का उल्लंघन करना जारी रखेंगे. क्या इन पर पूरी तरह रोक लगाने के लिए कुछ नहीं किया जा सकता? गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, याहू बिचौलिये के नाम पर इन अवैध गतिविधियों को जारी नहीं रख सकतीं."

याचिकाकर्ता साबू मैथ्यू जॉर्ज ने सर्वोच्च अदालत से कहा था कि वो इन वेबसाइटों पर मौजूद लिंग निर्धारण किट्स, टूल्स और क्लीनिकों को बंद करने के लिए सरकार को निर्देश दें. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 25 जुलाई को रखी है. 

First published: 5 July 2016, 5:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी