Home » इंडिया » Supreme court stated on kawariyas voilence, vandalise your own house not others properties
 

कांवड़ियों के तांडव पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी- ज्यादा हीरो बनना है तो जलाओ अपना घर

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 August 2018, 13:41 IST

सावन में कांवर यात्रा के दौरान हुई हिंसा का मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया. कावंड़ियों की हिंसा पर सख्त रूख अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना गंभीर है. गौरतलब है कि कावंड़ियों ने इलाहाबाद में नेशनल हाई वे के एक हिस्से को बंद कर दिया था.

जिस पर कोर्ट ने सख्त लहजे में कहा कि हीरो बनने के लिए अपना घर जलाएं. अपने घर का नुकसान करें. इस तरह किसी और की सम्पाती जलाना कोई बहादुरी नहीं है. जस्टिस चंद्रचूड़ ने इस मामले में कावंड़ियों को लेकर ये सख्त टिप्पणी की.

ये भी पढ़ें- Video: दिल्ली में कांवड़ियों ने सड़क पर मचाया उत्पात, बरसाए डंडे और कार में की तोड़फोड़

इसी के साथ धर्म के नाम पर अराजकता फैलाने वाले  कावंड़ियों के लिए कोर्ट ने कहा कि इनकी हिंसा के लिए किसी कानून के बदलने का इन्तजार नहीं किया जाएगा. इस तरह के मामले में तुरंत कार्यवाई की जाएगी. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार की ओर से AG के के वेणुगोपाल ने इसे मंजूर किया. साथ ही पुलिस को कोर्ट को आदेश दिए कि इन सभी कांवड़ियों को हिरासत में ले लिया जाए जिन्होंने कानून हाथ में लेकर इस तरह की अराजकता फैलाई है.

ये भी पढ़ें-  कांवड़ यात्रा: यूपी पुलिस के खौफ से गांव छोड़कर भागे 70 मुस्लिम परिवार 

कोर्ट ने इस तरह की हिंसा पार सख्त होते हुए कहा, '' हमने वीडियो में कांवडियों को कार को पलटते हुए देखा, क्या कारवाई हुई? इतना ही नहीं पदमावत फिल्म को लेकर हंगामा किया गया, फिल्म की हीरोइन की नाक काटने की धमकी दे दी गई, मराठा आरक्षण और SC/ST एक्ट को लेकर हिंसा हुई, क्या इन सबमें कार्रवाई हुई? हमें जिम्मेदारी तय करनी होगी.''

 

First published: 10 August 2018, 13:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी