Home » इंडिया » Supreme court stay on HC order continue, still President's rule in Uttarakhand
 

उत्तराखंड में 3 मई तक राष्ट्रपति शासन, सुप्रीम कोर्ट में टली सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 April 2016, 17:16 IST

उत्तराखंड में अब 3 मई तक के लिए राष्ट्रपति शासन लागू रहेगा. सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई के दौरान नैनीताल हाईकोर्ट के फैसले पर रोक को बरकरार रखा है. राज्य में दो दिन बाद होने वाला बहुमत परीक्षण भी टल गया है.

इससे पहले हाईकोर्ट ने विधानसभा में 29 अप्रैल को बहुमत परीक्षण का आदेश दिया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब उस दिन कोई शक्ति परीक्षण नहीं होगा. मामले की अगली सुनवाई 3 मई को होगी.

floor

पढ़ें:उत्तराखंड में फिर लगा राष्ट्रपति शासन, HC के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

वहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए हरीश रावत ने कहा है कि अदालत ने अगली सुनवाई की तारीख तय कर दी है, लिहाजा हमें सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक ही चलना होगा.

सुप्रीम कोर्ट में दो जजों की बेंच इस मामले पर सुनवाई कर रही है, जिसमें जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस शिवकीर्ति सिंह शामिल हैं. 


हाईकोर्ट के फैसले पर रोक जारी


आज के आदेश के साथ ही उत्तराखंड में एक बार फिर सियासी अस्थिरता के हालात बने हुए हैं. 22 अप्रैल को नैनीताल हाईकोर्ट ने राज्य में राष्ट्रपति शासन के केंद्र के फैसले को खारिज कर दिया था. 

जिसके बाद राज्य से राष्ट्रपति शासन हटा लिया गया. लेकिन हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र ने अगले ही दिन सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर दी. सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी थी.

पढ़ें:उत्तराखंड: कोर्ट ने केंद्र सरकार को दिया करारा झटका

27 मार्च से राष्ट्रपति शासन


सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट को दोनों पक्षों को 26 अप्रैल तक फैसले की कॉपी मुहैया कराने के निर्देश दिए थे. उत्तराखंड में 27 मार्च से राष्ट्रपति शासन लागू है. 

floor test

18 फरवरी को वित्त विधेयक के मुद्दे पर संवैधानिक संकट खड़ा हो गया था. विपक्ष और कांग्रेस के कुछ विधायकों ने मनी बिल पर मत विभाजन की मांग की थी, लेकिन स्पीकर ने मनी बिल को ध्वनि मत से पारित बताया था. 

पढ़ें:उत्तराखंड संकट पर दूसरे दिन भी संसद ठप

वहीं स्पीकर के फैसले पर कांग्रेस के नौ विधायकों ने सवाल उठाते हुए हरीश रावत सरकार को बर्खास्त करने की मांग की थी. हालांकि राज्यपाल ने रावत सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 28 मार्च का वक्त दिया था.

लेकिन उससे ठीक एक दिन पहले केंद्र की सिफारिश पर अनुच्छेद 356 का इस्तेमाल करते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया था. संसद की कार्यवाही के दौरान भी उत्तराखंड के मुद्दे पर दो दिन जबरदस्त हंगामा हुआ.

पढ़ें:उत्तराखंड संकट पर संसद में संग्राम, राज्यसभा की कार्यवाही बाधित


First published: 27 April 2016, 17:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी