Home » इंडिया » supreme court stay on madras high court decision on neet result 2017
 

NEET 2017: सुप्रीम कोर्ट ने CBSE को रिज़ल्ट जारी करने के लिए दी हरी झंडी

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 June 2017, 16:05 IST

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा यानी NEET 2017 के नतीजे CBSE जारी कर सकता है. NEET 2017 के नतीजों पर लगी रोक को सुप्रीम कोर्ट ने हटा दिया है. इसके साथ ही अदालत ने मद्रास हाई कोर्ट के फैसले पर स्‍टे लगा दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने 26 जून से पहले प्रवेश परीक्षा के नतीजे जारी करने का आदेश दिया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की थी याचिका

सीबीएसई ने शुक्रवार को मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच द्वारा नीट रिजल्‍ट पर रोक लगाए जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. सीबीएसई ने शुक्रवार को देश में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए नीट 2017 परीक्षा के नतीजों को प्रकाशित करने पर रोक के मद्रास उच्च न्यायालय के आदेश पर तत्काल रोक लगाने की उच्चतम न्यायालय से गुहार लगाई.

मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने 8 जून को नीट के नतीजे जारी करने पर रोक लगा दी थी. नीट रिजल्‍ट पर रोक का मामला करीब 12 लाख अभ्यार्थियों के भविष्य से जुड़ा है. करीब साढ़े दस लाख छात्रों ने हिन्दी या अंग्रेजी भाषा में परीक्षा दी थी, जबकि करीब सवा से डेढ़ लाख छात्रों आठ क्षेत्रीय भाषाओं में परीक्षा में बैठे थे.

क्या है पूरा मामला ?

इस साल नीट का एग्‍जाम हिंदी और अंग्रेजी के अलावा अन्‍य आठ भाषाओं में हुआ था. मद्रास हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर यह बात कही गई थी कि स्थानीय भाषाओं में पूछे गए सवाल अंग्रेजी भाषा में पूछे गए सवालों के मुकाबले आसान थे. सीबीएसई ने इस मामले में कहा था कि सभी पेपर्स को मॉडरेटरों ने तय करके एक ही लेवल का निकाला था. बोर्ड का कहना है कि सभी भाषा में पेपर का डिफिकल्टी लेवल एक जैसा ही था. 

मेडिकल में एडमिशन के लिए NEET

नीट का आयोजन मेडिकल और डेंटल कॉलेज में एमबीबीएस और बीडीएस कोर्स में प्रवेश के लिए किया जाता है. इस परीक्षा के द्वारा उन कॉलेजों में प्रवेश मिलता है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया के द्वारा संचालित किए जाते हैं.

First published: 12 June 2017, 12:41 IST
 
अगली कहानी