Home » इंडिया » Supreme Court to hear appeal challenging verdict on Ram Janmabhoomi from 10 Mar
 

श्रीराम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई 10 मार्च से

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

श्रीराम जन्मभूमि के मालिकाना हक को लेकर हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सर्वोच्च न्यायालय 10 मार्च से सुनवाई करेगा. वहीं, इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर भी सुनवाई करेगा.

30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्थल पर मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया था. अयोध्या मामले पर तीन सदस्यीय खंडपीठ ने अपने फैसले में विवादित जमीन को तीन हिस्सों में विभाजित करने का आदेश देते हुए कहा था कि जिस विवादित स्थल पर रामलला की मूर्ति विराजमान है, वहीं पर उनका जन्म हुआ था. 

इतना ही नहीं अदालत ने सुन्नी वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज करते हुए जमीन को रामलला, निर्मोही अखाड़ा और वक्फ बोर्ड के बीच विभाजित करने का भी निर्देश दिया था. जहां हर ओर इस निर्णय का स्वागत किया गया था, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने इस फैसले के खिलाफ जाते हुए सुप्रीम कोर्ट में इसे चुनौती दे दी थी.

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए यथास्थिति बनाए रखने के आदेश जारी कर दिए थे. न्यायमूर्ति आफताब आलम और न्यायमूर्ति आरएस लोढ़ा की पीठ ने उच्च न्यायालय के फैसले पर कहा था कि विवादास्पद भूमि के विभाजन का आदेश दिया गया जबकि किसी भी पक्ष ने उसे बांटने की बात नहीं की थी. अब 10 मार्च से सर्वोच्च न्यायालय में फिर से श्रीराम जन्मभूमि मामले पर सुनवाई शुरू होगी.

स्वामी की याचिका पर सुनवाई भी संभव

बताया जा रहा है कि 10 मार्च को जब सुप्रीम कोर्ट में श्रीराम जन्मभूमि के मुद्दे पर सुनवाई शुरू होगी तो कोर्ट भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर भी सुनवाई करेगा. स्वामी ने अपनी याचिका में राम मंदिर के पुनर्निर्माण की मांग की है. 

First published: 2 March 2016, 5:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी