Home » इंडिया » Controversial RJD leader Shahabuddin gets relief for 2 days challenging his bail in a murder case
 

जेल या बेल: शहाबुद्दीन को फिलहाल राहत, कोर्ट ने कहा- 28 सितंबर को जरूर होगी सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 September 2016, 16:14 IST
(फाइल फोटो)

आरजेडी के पूर्व सांसद और बिहार के बाहुबली नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन को फिलहाल दो दिन के लिए राहत मिल गई है. सुप्रीम कोर्ट में शहाबुद्दीन की जमानत को रद्द करके दोबारा जेल भेजे जाने की याचिका पर सुनवाई टल गई है.

अब इस मामले में अगली सुनवाई 28 सितंबर को होगी. शहाबुद्दीन के वकीलों ने अदालत से सुनवाई टालने की मांग की थी. हालांकि कोर्ट ने यह साफ कर दिया है कि मामले की सुनवाई बुधवार को जरूर होगी.

राजीव रोशन हत्याकांड में शहाबुद्दीन को पटना हाई कोर्ट से ज़मानत मिली थी. जिसकी बदौलत 10 सितंबर को 11 साल बाद वह जेल से बाहर आ चुका है. रिहाई के खिलाफ राजीव के पिता चंद्रकेश्वर प्रसाद और बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है.

19 सितंबर को जमानत के आदेश पर नोटिस

19 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने दोनों याचिकाओं पर शहाबुद्दीन को नोटिस जारी करते हुए पूछा था कि क्यों न उसे जमानत देने वाले हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी जाए. हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगने की सूरत में शहाबुद्दीन को दोबारा जेल की हवा खानी होगी.

सुनवाई के दौरान शहाबुद्दीन की तरफ से जस्टिस पी सी घोष और अमिताव रॉय की बेंच को बताया गया कि इस मामले वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी पैरवी करेंगे. लेकिन जेठमलानी आज उपलब्ध नहीं हैं. इसलिए मामले की सुनवाई को एक हफ्ते के लिए टाल दिया जाए.

मीडिया ट्रायल का लगाया आरोप

शहाबुद्दीन की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील शेखर नाफड़े ने मीडिया ट्रायल का आरोप लगाया है. नाफड़े ने कहा कि इस मामले में मीडिया ने बेवजह हंगामा खड़ा कर दिया है.

नाफड़े ने कहा, "सुप्रीम कोर्ट में वो बातें भी कही जा रही हैं, जो हाई कोर्ट में चर्चा का विषय नहीं थीं. उन्हें तमाम मामलों का ब्यौरा देते हुए विस्तार से जवाब दाखिल करने की इजाज़त दी जाए."

बुधवार दोपहर दो बजे सुनवाई

सुनवाई के दौरान चंद्रकेश्वर प्रसाद के वकील प्रशांत भूषण ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा, "नोटिस एक सप्ताह पहले जारी हो चुका है. अब जान-बूझकर मामले को लटकाया जा रहा है. कोर्ट तुरंत हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगाए."

बिहार सरकार के वकील दिनेश द्विवेदी ने भी मामले की तुरंत सुनवाई की मांग की. सुप्रीम कोर्ट ने इस पर उन्हें आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अगर ये इतना जरूरी था तो याचिका दाखिल करने में इतना समय क्यों लगाया गया.

सुप्रीम कोर्ट ने सभी वकीलों की दलीलें सुनने के बाद मामले की सुनवाई बुधवार दोपहर 2 बजे करने की बात कही. कोर्ट में राजीव के भाइयों गिरीश और सतीश की हत्या के मामले में शहाबुद्दीन को मिली ज़मानत को भी चुनौती दी गई है. इस पर भी बुधवार को सुनवाई होगी.

First published: 26 September 2016, 16:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी