Home » इंडिया » supreme court: tobacco companies have to show 85pc picture warning
 

सुप्रीम कोर्ट: तंबाकू कंपनियों को 85 फीसदी चेतावनी चित्र छापने ही होंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST

सुप्रीम कोर्ट ने देश में तंबाकू कंपनियों को सिगरेट और बीड़ी समेत किसी भी उत्पाद के पैकेट में दोनों ओर 85 फीसदी चेतावनी चित्र छापने का आदेश दिया है.

सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश से पहले तंबाकू कंपनियों ने कर्नाटक हाईकोर्ट की धारवाड़ बेंच से केंद्र के नए आदेश के खिलाफ स्टे ले लिया था. जिसके बाद आदेश पर रोक लग गई थी.

sc-order-tobacco

नए आदेश के तहत तंबाकू उत्पादों में चित्र चेतावनी का साइज 40 प्रतिशत से बढ़ाकर 85 प्रतिशत करना जरूरी है, लेकिन तंबाकू कंपनियां को इस आदेश से डर था कि कहीं उनकी बिक्री में गिरावट न आ जाए.

तंबाकू कंपनियों ने कर्नाटक हाईकोर्ट की धारवाड़ बेंच से राहत मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी.

sc-tobacco

सुप्रीम कोर्ट ने मामले में सुनवाई के दौरान साफ कर दिया है कि जब तक कर्नाटक हाईकोर्ट इस मामले का पूरी तरह से निपटारा नहीं कर देता है, तब तक किसी दूसरे हाईकोर्ट का आदेश इस मामले में मान्य नहीं होगा.

गौरतलब है कि इस आदेश का पालन केवल तीन तंबाकू कंपनियां ही कर रही हैं. इनमें पनामा सिगरेट बनाने वाली गोल्डन टोबैको कंपनी, शिखर टोबैको और कुबेर खैनी शामिल हैं.

First published: 4 May 2016, 2:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी