Home » इंडिया » Supreme Court verdict on Ayodhya is wrong, Advani regretted demolishing mosque
 

'अयोध्या पर गलत है सुप्रीम कोर्ट का फैसला, आडवाणी को था मस्जिद गिराने का पछतावा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 November 2019, 10:12 IST

अयोध्या मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय के फैसले की पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा ने आलोचना की. उन्होंने इस फैसले को गलत बताया. हालांकि यशवंत सिन्हा ने यह भी कहा कि मुस्लिम समुदाय को इस फैसले को स्वीकार करना चाहिए. यशवंत सिन्हा ने मुंबई साहित्य महोत्सव में यह बातें कहीं.

यशवंत सिन्हा से जब इस ऐतिहासिक फैसले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "उच्चतम न्यायालय का फैसला गलत निर्णय है, इसमें कई खामियां हैं लेकिन मैं फिर भी मुस्लिम समुदाय से फैसले को स्वीकार करने के लिए कहूंगा. चलिए आगे बढ़ते हैं. उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद कोई फैसला नहीं है."

 

इसके आगे यशवंत सिन्हा ने यह भी दावा किया कि भाजपा दिग्गज लाल कृष्ण आडवाणी और भाजपा के अन्य वरिष्ठ नेताओं को शुरुआत में बाबरी मस्जिद विध्वंस को लेकर पछतावा था. हालांकि बाद में वह राम मंदिर आंदोलन का श्रेय लेने लगे थे. 

इसके अलावा लेखक अतीश तासीर का 'ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया' दर्जा वापस लिये जाने पर भी यशवंत सिन्हा ने मोदी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यह आपातकाल जैसी स्थिति है. अब व्यक्तिगत बदले का जमाना शुरू हो गया है. लेखक तासीर का ओसीआई दर्जा वापस लिया गया क्योंकि कथित तौर पर उन्होंने यह खुलासा नहीं किया था कि उनके पिता पाकिस्तानी नागरिक थे.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए अयोध्या की विवादित जमीन को रामजन्मभूमि न्यास को सौंपने का निर्णय किया है. इसके अलावा मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही अन्य जगह पर पांच एकड़ जमीन देने को कहा है.

Ayodhya Verdict : फैसले के खिलाफ AIMPLB दायर करेगा समीक्षा याचिका

अयोध्या में बनेगी भगवान श्रीराम की भव्य प्रतिमा, खर्च होंगे 4000 करोड़ रुपये

First published: 18 November 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी