Home » इंडिया » Supreme court verdict on SC/ST promotipn: state government can decide weather they should give reservation or not
 

सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों को दिया SC/ST को प्रमोशन में आरक्षण देने का अधिकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 September 2018, 12:00 IST

सुप्रीम कोर्ट ने आज सरकारी नौकरी में प्रमोशन के लिए आरक्षण की व्यवस्था को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि प्रमोशन में आरक्षण की कोई जरुरत नहीं है. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गेंद राज्य सरकारों के पाले में डालते हुए कहा कि आंकड़ों के आधार पर राज्य सरकार आरक्षण की सुविधा को दे सकती हैं.

इस मामले में फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि नागराज फैसले के मुताबिक डेटा चाहिए. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्यों की दलील मानते हुए कहा कि आंकड़े जारी करने के बाद राज्य सरकारें आरक्षण पर विचार कर सकती हैं. इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट ने कहा की सरकारें आरक्षण देने के लिए कुछ मुख्य बातों को आधार बना सकती है.

आरक्षण देने के लिए वर्गों में पिछड़ेपन का निर्धारण कर के सरकार आरक्षण की सुविधा दे सकती हैं. इसके अतिरिक्त नौकरी में पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने को भी प्रमोशन में आरक्षण का आधार बनाया जा सकता है. इसी के साथ संविधान के अनुच्छेद 335 का अनुपालन किया जाएगा.

इस मामले में 2006 में सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ ने सरकारी नौकरियों में प्रमोशन पर आरक्षण को लेकर फैसला दिया था. जिसेक तहत कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ इस आरक्षण की व्यवस्था को सही ठहराया था. गौरतलब है कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन में आरक्षण मामले में सुप्रीम कोर्ट की सविधान पीठ ने 30 अगस्त को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था.

First published: 26 September 2018, 12:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी