Home » इंडिया » Surgical strikes: India calls Pakistan's strategic bluff. Sharifs responded
 

पाकिस्तान की सेना छिपाती रही और पीएम नवाज़ निंदा करते रहे

तिलक देवाशर | Updated on: 30 September 2016, 4:41 IST
QUICK PILL
  • आईएसपीआर नेे दावा किया है कि भारत ने नियंत्रण रेखा के पार सर्जिकल हमले किए हैं. उसका कहना था, ‘भारत ने कोई सर्जिकल हमले नहीं किए, बल्कि यह क्रॉस बॉर्डर फायर था, जिसकी पहल और संचालन भारत ने किया, जो कि महज अस्तित्व की घटना है.’
  • पाकिस्तानी सेना बार-बार इन हमलों को झुठलाती रही लेकिन बदकिस्मती से प्रधानमंत्री आवास से जारी एक बयान में कहा गया कि भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा के पास कई स्थानों पर काफी सर्जिकल हमले किए है.

18 सितंबर 2016 की सुबह पाकिस्तान के आतंकवादियों ने उरी पर हमला किया था. इसमें 18 भारतीय सैनिक मारे गए थे. इस संबंध में दो बयान जारी हुए थे.  पहला, पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को आश्वस्त किया था कि ‘इस हमले का जवाब दिया जाएगा’, और दूसरा, डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह का कि ‘करारा जवाब हमारी चुनी हुई जगह और समय पर दिया जाएगा.’

जब पूरा देश अपनी सांसों को थामे इंतजार कर रहा था, मीडिया का ध्यान कूटनीतिक प्रतिक्रिया और संयुक्त राष्ट्र महासभा के चल रहे सत्र में संयुक्त राष्ट्र से जुड़ी गतिविधियों की ओर कर दिया गया. हालांकि भारतीय सेना चौकस थी और जवाबी हमले के लिए चुपचाप योजना बना रही थी.

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने खुलासा किया कि हमले की शुरुआत 29 सितंबर के शुरुआती घंटों में की गई. उनके मुताबिक, भारत ने राष्ट्र की रक्षा के लिए नियंत्रण रेखा के पास सर्जिकल हमले किए. इससे आतंककारी और जो लोग उन्हें बचा रहे थे, महत्वपूर्ण रूप से हताहत हुए.

उनके मुताबिक, यह एक्शन एक बहुत ही खास और विश्वसनीय सूचना पर लिया गया. सूचना थी कि नियंत्रण रेखा के पास लांच पैड पर आतंकवादी टीमें जम्मू-कश्मीर और भारत के अन्य महानगरों पर घुसपैठ और आक्रमण करने को तैयार खड़ी हैं.

हमले से पहले भारतीय सेना ने पाकिस्तान को सूचना दी थी

डीजीएमओ ने यह भी खुलासा किया कि पाक डीजीएमओ को भी सर्जिकल हमलों के बारे में सूचित कर दिया गया था. इतना उकसाने के बावजूद पाक को भारत की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दिखी थी, और अब जब यह अचानक हुआ, तो जाहिर है, उसे सकते में आना ही था. पाकिस्तान में विभिन्न संगठनों की प्रतिक्रियाएं थीं कि उन्हें परेशान कर दिया है, यहां तक कि उलझन में डाल दिया है.

उरी हमले के एक दिन बाद 19 सितंबर को पाक के सेना प्रमुख रहील शरीफ ने कोर कमांडरों की बैठक के बाद घोषणा की, ‘भारत द्वारा प्रसारित शत्रुतापूर्ण बयान’ को देखते हुए पाकिस्तानी सेना ‘प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष धमकियों के संपूर्ण स्पेक्ट्रम पर प्रतिक्रिया करने को पूरी तरह तैयार है.’

इसके बाद 23 सितंबर को उन्होंने खरियान के पास नेशनल काउंटर-टेररिज्म सेंटर पर अधिकारियों से कहा कि सेना , ‘पाकिस्तान का ‘हर इंच किसी भी कीमत पर’ बचाएगी और पाकिस्तान की सशस्त्र सेना में ‘इस धमकी के पूरे स्पेक्ट्रम का जवाब देने की क्षमता है.’ भारतीय सेना का यह हमला, जाहिर है, रहील शरीफ के लिए निजी तौर पर भी काफी शर्मनाक है. आईएसपीआर ने जिस परिश्रम से उनकी लोकप्रियता एक सख्त, व्यावहारिक और क्रियाशील सेना प्रमुख की बनाई थी, को बड़ा धक्का लगेगा और वह भी उनके कार्यकाल के आखिर में.

सेना झूठ बोलती रही लेकिन पीएम नवाज़ साफ-साफ़ बोले

हैरानी की बात नहीं है, आईएसपीआर खुद को बचाने की कोशिश कर रहा है. उसने इस दावे को खारिज किया कि भारत ने नियंत्रण रेखा के पार सर्जिकल हमले किए हैं. उसका कहना था, ‘भारत ने कोई सर्जिकल हमले नहीं किए, बल्कि यह क्रॉस बॉर्डर फायर था, जिसकी पहल और संचालन भारत ने किया, जो कि महज अस्तित्व की घटना है.’

उसने आगे कहा, ‘आतंकवादियों से जोडक़र जो सर्जिकल हमले की बात कही जा रही है, वह एक भ्रम है, जिसे भारत ने झूठा प्रभाव बनाने के लिए जानबूझकर पैदा किया है. मीडिया में हाइप बनाने के लिए भारत ने क्रॉस बॉर्डर फायर को सर्जिकल हमले का नाम दिया है, पर यह सच नहीं है. पाकिस्तान ने साफ कहा है कि यदि पाकिस्तान की धरती पर सर्जिकल हमले होंगे, तो उतनी ही सख्ती से जवाब दिया जाएगा.’

आमतौर पर कम नजर आने वाले रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ, जो उरी की घटना से काफी खुश हो रहे थे, ने आईएसपीआर के शब्दों को दोहराया. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान की सेना ने भारतीय सेना को मुंहतोड़ जवाब दिया. भारतीय सेना ने पिछली रात नियंत्रण रेखा के पांच सेक्टरों पर छोटे हथियारों से फायर किए.

भारत यह सब नियोजित लक्ष्य से कर रहा है. यदि भारत फिर ऐसा करने की कोशिश करता है, तो हम सख्ती से जवाब देंगे. भारत यह सब मीडिया और जनता को खुश करने के लिए कर रहा है.’

पाकिस्तान की वायु सेना ने भी भारत के सर्जिकल हमलों को आधारहीन और झूठे करार हुए भारत के दावों का खंडन किया. उसका कहना था कि पाकिस्तान की वायु सेना किसी भी बाहरी आक्रमण का मजबूती से और मुंहतोड़ जवाब देने के लिए हमेशा चौकस है. बदकिस्मती से प्रधानमंत्री आवास से जारी एक बयान आईएसपीआर, पीएएफ और रक्षा मंत्री के दावों के ठीक विपरीत था.

गौरतलब है कि यह बयान भारत के संयुक्त बयान कि भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा के पास कई स्थानों पर काफी सर्जिकल हमले किए हैं, के बाद आया.

प्रधानमंत्री आवास से जारी बयान था, ‘पीएम नवाज शरीफ ने नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सेना की अकारण और खुली आक्रामकता की घोर निंदा की है, जिसकी वजह से दो पाकिस्तानी सिपाही शहीद हुए.’ बयान में यह भी कहा गया, ‘पड़ोस में शांति से रहने के हमारे इरादे को हमारी कमजोरी नहीं समझा जाए क्योंकि हमारी बहादुर सेना देश की क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने में पूरी तरह से सक्षम है.’ खबरें हैं कि पाक को आगे जिस बात का धक्का लग सकता है, वह है सर्जिकल हमलों का वीडियो, जो भारतीय सेना के पास प्रमाण के तौर पर है. इन्हें आराम से सार्वजनिक किया जा सकता है.

रहील शरीफ क्या प्रतिक्रिया करेंगे?

जब पाकिस्तान सर्जिकल हमलों का ही खंडन कर रहा है, तो पाकिस्तानी सेना के लिए इसके जवाब में हमले करना बेहद शर्मनाक होगा. और फिर ‘क्रॉस बॉर्डर फायरिंग’ में दो सैनिकों के मारे जाने से नियंत्रण रेखा पार करने का कोई औचित्य नजर नहीं आएगा, आईबी तो दूर की बात है.’ फिर भी सेना जब तक तुरंत और मजबूती से जवाब नहीं देगी, ऐसे हमले को संभाल नहीं पाएगी.

सेना प्रमुख ने कभी नहीं सोचा होगा कि भारतीय सेना के इस हिम्मती हमले और जो नुकसान हुआ है, की वजह से उनकी इस तरह विदाई होगी. साथ ही जैसे ही सच्चाई सामने आएगी, पाक जनता का मनोबल गिरेगा, जिसे जनता हमेशा जानना चाहेगीे. इसलिए पाकिस्तान को प्रतिक्रिया करनी होगी, शायद अपनी मर्जी की जगह और समय पर. भारतीय हमले का खंडन करके हो सकता है वे रेगुलर सेना इकाइयों की जगह राज्य के बाहर के एक्टर्स चुनें.

अपने घर में भी पाक की स्थिति ठीक नहीं है. नवाज शरीफ भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे हैं और उनके विरुद्ध इमरान खान ने धर्म की राजनीति छेड़ रखी है.  इसलिए इस संबंध में, परिवर्तन के लिए, दोनों शरीफ की एक सी स्थिति है. इसलिए भारत को पाक के किसी भी एडवेंचर के विरुद्ध सावधान रहना होगा.

First published: 30 September 2016, 4:41 IST
 
तिलक देवाशर @catchhindi

Tilak Devasher retired as Special Secretary, Cabinet Secretariat, to the Government of India. His book Pakistan: Courting the Abyss is releasing shortly.

पिछली कहानी
अगली कहानी