Home » इंडिया » Sushant Singh Rajput case: Bihar government demands of CBI probe has accepted- Center in SC
 

Sushant Singh Rajput case : बिहार सरकार की CBI जांच की मांग स्वीकार कर ली गई है- SC में केंद्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 August 2020, 15:58 IST

Sushant Singh Rajput: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच पर महाराष्ट्र पुलिस से स्टेटस रिपोर्ट मांगी. न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट पीठ ने महाराष्ट्र, बिहार और सुशांत सिंह राजपूत के पिता को अभिनेता रिया चक्रवर्ती की याचिका पर अपना तीन दिनों के भीतर जवाब दाखिल करने के लिए कहा है. मामले की अगली सुनवाई एक हफ्ते बाद होगी.

रिया चक्रवर्ती की याचिका में इस मामले की जांच को पटना से मुंबई स्थानांतरित करने की मांग की गई थी. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सुनवाई के दौरान केंद्र की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि अब इस याचिका में कुछ नहीं बचता है क्योंकि केंद्र ने इस मामले में बिहार सरकार की सीबीआई जांच की मांग को स्वीकार कर लिया है.


मेहता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि एक पक्ष चाहता है कि बिहार पुलिस जांच करे, दूसरा पक्ष चाहता है कि महाराष्ट्र पुलिस जांच करे, ऐसे में केंद्र खुद जांच तय करेगा. उन्होंने कहा कि अगर महाराष्ट्र पुलिस इसकी जांच करती है तो यह सबूतों को नष्ट करने के दायरे में आएगा. सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में दावा किया कि महाराष्ट्र पुलिस मामले में सबूत नष्ट कर रही है.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने कहा ''सुप्रीम कोर्ट ने ये साफ बोला है कि मुंबई पुलिस ने जो बिहार पुलिस को क्वारंटीन किया था ये बहुत गलत है. और जब तक सीबीआई औपचारिक अधिसूचना(नोटिफिकेशन) के तहत मामले को अपने हाथ में नहीं लेती है तब तक बिहार पुलिस जांच करेगी''.

ANI के अनुसार उन्होंने कहा ''मुंबई पुलिस के हिसाब से तो कोई अपराध हुआ ही नहीं है क्योंकि वो बचाना चाह रहे हैं. मुझे पूरी उम्मीद है कि आज की सुनवाई के बाद महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस पटना पुलिस को पूरा सहयोग देगी, जब तक सीबीआई मामले को टेकओवर नहीं करती''.

25 फरवरी को SushantSinghRajput के पिता द्वारा व्हाट्सएप संदेश भेजाने पर मुंबई डीसीपी परमजीत एस दहिया व्हाट्सएप चैट को लेकर मेरी सुशांत के पिता से बात हुई थी, मैंने उन्हें साफ बताया था कि आप लिखित शिकायत करें नहीं तो हम इस पर एक्शन नहीं ले सकते हैं.''

उन्होंने कहा ''उनके पिता का कहना था कि लड़की को या उनके एसोसिएट को बांद्रा पुलिस स्टेशन बुलाया जाए और डराया-धमकाया जाए, जो कि गैर कानूनी है, हमने साफ मना कर दिया और उन्हें तुरंत लिखित शिकायत करने को कहा लेकिन वो लिखित शिकायत मेरे पास कभी भी नहीं आई.''

SSR केस : बिहार सरकार जबरन पुलिस भेजकर महाराष्ट्र के अधिकार क्षेत्र में दखलअंदाजी नहीं कर सकती- सुरजेवाला

First published: 5 August 2020, 15:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी