Home » इंडिया » Suzuki no longer interested in India's auto market?
 

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता सुजुकी को भारत के ऑटो मार्केट में अब कोई रूचि नहीं है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 November 2019, 15:46 IST

सुजुकी मोटर कॉर्प का कहना है कि वह अब भारत के ऑटो बाजार में आगे बढ़ने के लिए उत्साहित नहीं है. भारत दुनिया का चौथा सबसे बड़ा बाजार है, जहां सुजुकी ने पिछले सात वर्षों में लगातार वृद्धि देखी है. जापानी ऑटोमेकर की चेतावनी ऐसे वक्त में आयी है जब भारत में उसकी बिक्री में लगातार गिरावट आयी है. भारत में बिकने वाली कुल कारों का आधा हिस्सा मारुति सुज़ुकी बेचती है. एक रिपोर्ट के अनुसार सुज़ुकी के अध्यक्ष तोशीहिरो सुज़ुकी ने कहा "हम अब यह नहीं सोचते हैं कि भारत में वृद्धि बिना रुकावट के होगी.

जनवरी तक बढ़ रही मारुति की बिक्री फरवरी से सितंबर 2019 तक हर महीने कम ह गई.भारत का ऑटो सेक्टर इस साल मांग में कमी के कारण संकट से है. क्योंकि शेडों बैंकों, ज्यादा टैक्स और एक कमजोर ग्रामीण अर्थव्यवस्था ने उपभोक्ताओं की खरीदारी को ख़त्म कर दिया है. फोर्ड, वोक्सवैगन और फिएट जैसी बड़ी वैश्विक कंपनियां पहले से ही अपनी रणनीति का पुनर्मूल्यांकन कर रहे हैं क्योंकि वे छोटी कारों के वर्चस्व वाले बाजार में पैठ बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

 

आईएचएस मार्किट के ऑटो सेक्टर के विशेषज्ञ पुनीत गुप्ता ने कहा, "भारत में अपने भविष्य के निवेश को लेकर कार निर्माता बहुत सतर्क हो रहे हैं। उनमें से ज्यादातर या तो अपने भारत के नए मॉडल प्लान को खत्म कर रहे हैं या सिर्फ स्क्रैप कर रहे हैं. फोर्ड ने दो दशक के बाद देश में अपने स्वतंत्र संचालन को समाप्त करते हुए महिंद्रा एंड महिंद्रा को अपनी भारत शाखा में बहुमत हिस्सेदारी बेचने पर सहमति व्यक्त की है. वह एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में चुनौतियों का सामना कर रही है.

जानकारों का मानना है कि जीएसटी कर व्यवस्था के तहत ज्यादा टैक्स और इलेक्ट्रिक-वाहन नीति का वैश्विक वाहन निर्माताओं पर बड़ा असर पड़ा है. पश्चिमी ऑटोमेकर के एक कार्यकारी ने कहा "जब आपके पास नीतिगत अस्थिरता होती है तो कंपनियों को देश में निवेश करने के लिए मुश्किल होती है.

भारत काफी हद तक एक छोटी कार बाजार है और यह ज्यादातर वैश्विक वाहन निर्माताओं के लिए एक ताकत नहीं है, जो चीन और अमेरिका जैसे दुनिया के शीर्ष दो कार बाजारों में कहीं अधिक एसयूवी और लक्जरी कारें बेचते हैं. पश्चिमी वाहन निर्माताओं को भारत के लिए उत्पादों को डिजाइन करना पड़ा जो कि एक महंगी एक्सरसाइज है.

'बंद हो सकते हैं 2000 के नोट, कैश में हो रहा है आज भी 85% भुगतान'

First published: 8 November 2019, 15:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी