Home » इंडिया » swami prasad maurya told sp govt totally faylor on governance issue
 

साइकिल की सवारी से स्वामी प्रसाद मौर्य का इनकार, अखिलेश सरकार पर वार

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 June 2016, 13:00 IST
(ट्वीटर )

बहुजन समाज पार्टी पर टिकटों की नीलामी का आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ने वाले वरिष्ठ नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के बारे में कयास लगाए जा रहे थे कि वो समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकते हैं.

लेकिन स्वामी प्रसाद मौर्य ने अब समाजवादी पार्टी के प्रति आक्रामक रुख अपना लिया है. मौर्य ने गुरुवार को समाजवादी पार्टी को गुंडों और माफिया की पार्टी बता डाला. वहीं मौर्य के जुबानी हमले पर समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने पलटवार करने में देर नहीं लगाई.

आजम खान का पलटवार

अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री आजम खान ने कहा, "मौर्य जहां से आए हैं, वहीं लौट जाएं. अपनी नेता (मायावती) को मना लो और घर लौट जाओ."

मायावती को करारा झटका देते हुए बसपा के पूर्व महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य काफी समय तक सपा के प्रति नरम रुख अपनाए रहे. उन्‍होंने पत्रकार वार्ता में कौमी एकता दल के सपा में विलय को उसका आंतरिक मुद्दा भी बताया था.

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को मौर्य की तारीफ करते हुए कहा था कि वह अच्छे आदमी हैं, मजबूत नेता हैं. बसपा छोड़कर उन्होंने हमारी बात को सही साबित कर दिया, लेकिन जैसे ही शाम हुई स्वामी प्रसाद मौर्य के तेवर सपा के प्रति तल्ख हो गए.

'अराजकता-गुंडागर्दी का बोलबाला'

मौर्य ने कहा, "समाजवादी पार्टी सरकार में कानून व्यवस्था चौपट हो चुकी है. प्रदेश में अराजकता और गुंडागर्दी का बोलबाला है."

मौर्य ने पत्रकारों से बातचीत में समाजवादी पार्टी में शामिल होने की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि सपा सरकार में प्रदेश का कोई विकास नहीं हुआ है. अपराधों में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है. वहीं आजम खां ने मीडिया से कहा कि मौर्य को तो बसपा में वापस लौट जाना चाहिए.

First published: 24 June 2016, 13:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी