Home » इंडिया » swaroopanand saraswati: bjp doing politics with sedueled cats
 

शंकराचार्य: बीजेपी का 'समरसता भोज' स्वांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2016, 16:16 IST
(एजेंसी)

द्वारकापीठ और शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने गुरुवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर जमकर निशाना साधा. स्वरूपानंद ने कहा कि बीजेपी और अमित शाह का दलितों के प्रति प्रेम झूठ के अलावा कुछ और नहीं है.

शंकराचार्य ने कहा कि दलित परिवारों के साथ इन नेताओं का भोजन करना केवल उनके राजनैतिक उद्देश्यों की पूर्ति के अलावा और कुछ नहीं है. उन्होंने कहा, "अगर सही में उनके मन में दलितों के लिए प्रेम है, तो वह बिना किसी पूर्व सूचना के क्यों नहीं उनके साथ भोजन करते हैं."

स्वरूपानंद ने कहा, "शाह का उज्जैन में दलितों के साथ क्षिप्रा नदी में स्नान केवल राजनैतिक फायदे के लिए था. इससे उन्होंने एक नयी परंपरा को जन्म दिया है. हमारे धर्म में नदियों, मंदिरों और धार्मिक स्थलों पर जाति, धर्म या वर्ण के आधार पर कोई भेदभाव नहीं है."

अमित शाह और बीजेपी पर हमले के साथ ही शंकराचार्य ने यूपी की अखिलेश सरकार पर भी निशाना साधा. बिसाहड़ा मामले में स्वरूपानंद ने कहा, "बेशक, जिन लोगों ने कानून हाथ में लिया, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था."

स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, "जब कोई ब्राह्मण मरता है, तो सरकार सहिष्णुता नहीं दिखाती, लेकिन जब कोई अल्पसंख्यक मरता है, तो सब चिल्लाने लगते हैं. सवाल यह है कि आखिर सरकार अपनी जिम्मेदारियों को क्यों नहीं पूरी करती. जब गोहत्या पर प्रतिबंध है, तो फिर कोई ऐसा कैसे कर सकता है."

शंकराचार्य ने कुछ राज्यों में गोहत्या का आरोप लगाते हुए कहा, "अभी भी आए दिन उत्तर प्रदेश और हरियाणा के एक बड़े हिस्से से असम और पश्चिम बंगाल को लगातार गायों की तस्करी जारी है.

लोगों के द्वारा उनका खुलेआम वध किया जा रहा है. गोहत्या बंद होने के बावजूद अगर सरकार रोकथाम नहीं कर पाती, तो निश्चित ही यह सरकार की विफलता है."

First published: 10 June 2016, 16:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी