Home » इंडिया » swati singh also booked in dowry and women harassment case
 

स्वाति सिंह पर भी दर्ज है महिला उत्पीड़न का केस

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2016, 15:54 IST
(एजेंसी)

बीएसपी प्रमुख मायावती के खिलाफ पति की बदजुबानी के बाद बीएसपी कार्यकर्ताओं की बदजुबानी का शिकार हुई बीजेपी के पूर्व उपाध्यक्ष और फरार नेता दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह के बारे में भी अब चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं.

खबर है कि मुताबिक गाली और प्रताड़ना के आरोप में बीएसपी प्रमुख मायावती सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा चुकी स्वाति सिंह के खिलाफ भी महिला उत्पीड़न का ही केस चल रहा है.

बीएसपी नेताओं पर सास, बेटी और स्वयं के उत्पीड़न का मामला दर्ज कराने वाली स्वाति सिंह और उनके पूरे परिवार ने भी एक महिला का उत्पीड़न किया था और उस संदर्भ में उन पर केस भी दर्ज है.

पढ़ें: मायावती को रक्षात्मक कर देने वाली स्वाति सिंह हैं एमबीए, एलएलबी और एलएलएम

बताया जा रहा है कि पीड़ित महिला कोई और नहीं बल्कि स्वाति सिंह के भाई की पत्नी हैं और उन्होंने यह केस साल 2008 में दर्ज कराया था.

स्वाति सिंह की भाभी जिन्होंने इन पर उत्पीड़न का केस दर्ज कराया था उनका नाम आशा सिंह बताया जा रहा है.

आशा सिंह ने स्वाति सिंह सहित उनके परिवार पर दहेज उत्पीड़न के तहत धारा 498 ए, 325, 323 और धारा 504 में मामला दर्ज कराया है.

दर्ज एफआईआर की कॉपी

आशा सिंह के केस के मुताबिक, जब आशा सिंह शादी करके स्वाति सिंह के घर आईं तो करीब दो महीने बाद उन्हें पूरे परिवार की ओर से दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाने लगा.

आशा सिंह के ससुराल पक्ष यानी स्वाति सिंह के मायके के लोगों ने उनके साथ मारपीट और अभद्रता की. स्वाति के परिवार वालों ने आशा से दहेज में 3 लाख रुपए न लाने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी.

इस मामले में आरोपियों के नाम इस प्रकार हैं, पुनीत सिंह, वीरेंद्र कुमार सिंह और स्वाति सिंह.

इस केस में मुख्य आरोपी पुनीत सिंह, स्वाति सिंह के भाई हैं. पुनीत कुमार सिंह लखनऊ में रहते हैं और निजी कारोबार से जुड़े हुए हैं.

गौरतलब है कि स्वाति सिंह मूलरूप से उत्तर प्रदेश के बलिया जिले का रहने वाली हैं. उनके गांव का नाम रामनगर दोआबा है. हालांकि स्वाति के जीवन का अधिकांश हिंसा झारखंड के बोकारो जिले में गुजरा. स्वाति की मां का नाम भी आशा सिंह है.

स्वाति सिंह पर आरोप है कि उन्होंंने अपने भाई की पत्नी को न सिर्फ घर से बाहर निकाल दिया बल्कि उनका तलाक होने से पहले ही भाई की शादी किसी और लड़की से करवा दी.

स्वाति के बारे में कहा जा रहा है कि वो अपने ससुराल की बजाय मायके में रहती हैं. बसपा कार्यकर्ताओं से मिली धमकी के बाद उन्हें जो पुलिस सुरक्षा मिली थी वह उनके मायके में तैनात है. जबकि दयाशंकर सिंह की मां यानी स्वाति की सास को अभी तक कोई सुरक्षा नहीं मिली है. जबकि स्वाति सिंह ने अपनी सास को साथ ले जाकर एफआईआर दर्ज करवाई थी और उन्हें भी खतरा बताया था.

First published: 27 July 2016, 15:54 IST
 
अगली कहानी