Home » इंडिया » Swiss BakSecrecy act between India and Switzerland to know black money
 

स्विस बैंक में पैसा जमा करने वाले भारतीयों का अब चलेगा पता, आज से शुरु होगी कार्रवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 September 2019, 10:35 IST

स्विस बैंक में पैसा रखने वाले भारतीय की आज यानी 1 सितंबर से पहचान होना शुरु हो रही है. इसके साथ ही भारत के टैक्स अधिकारी आसानी से इस बात का पता लगा सकेंगे कि किन-किन भारतीयों ने स्विस बैंक में कितना काला धन जमा कर रखा है. बता दें कि इस के लिए भारत और स्विट्जरलैंड के बीच करार हुआ है. जो एक सितंबर से प्रभावी हो रहा है. जिससे काले धन का पता लगाना आसान हो जाएगा.

CBDT यानी केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड लंबे समय से इस बारे में इंतजार कर रहा था कि किसी तरह स्विस बैंकों से गोपनीयता का दौर समाप्त हो ताकि वहां जमा काले धन की जानकारी हासिल की जा सके. लेकिन अब ये आसान हो चुका है क्योंकि स्विस बैंकों में 1 सितंबर से गोपनीयता का नियम हटने के बाद भारत सरकार आसानी से खाताधारकों की जानकारी जुटा सकेगी.

बता दें कि इसके लिए CBDT ने आयकर विभाग के लिए नीति बनाता है. अब सीबीडीटी के लिए स्विट्जरलैंड में भारतीय नागरिकों के साल 2018 में बंद किए खातों की जानकारी हासिल करने में कोई परेशानी नहीं होगी. बता दें कि मोदी सरकार की ओर से सख्ती अपनाने के बाद कई लोगों ने स्विस बैंकों में अपने खाते बंद कर दिए थे और पैसा कहीं और ट्रांसफर कर दिया था. अब टैक्स विभाग को ऐसे लोगों पर भी नकेल कसने में आसानी होगी.

सीबीडीटी के मुताबिक, सूचना लेने-देने की यह व्यवस्था शुरू होने के ठीक पहले भारत आए स्विट्जरलैंड के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजस्व सचिव एबी पांडेय, बोर्ड के चेयरमैन पीसी मोदी और बोर्ड के सदस्य (विधायी) अखिलेश रंजन के साथ बैठक की. गुरुवार और शुक्रवार हुई इस बैठक के प्रतिनिधिमंडल की अगुआई स्विट्जरलैंड के निकोलस मारियो ने की.

एक आंकड़े के मुताबिक साल 1980 से साल 2010 के बीच 30 साल के दौरान भारतीयों ने लगभग 246.48 अरब डॉलर यानी करीब 17,25,300 करोड़ रुपये से लेकर 490 अरब डॉलर यानी करीब 34,30,000 करोड़ रुपये के बीच काला धन देश के बाहर भेजा. इसमें ज्यादातर हिस्सा स्विस बैंकों में जमा है.

प्रतीक हजेला: NRC के कोऑर्डिनेटर, खुद इनका भी नाम था लिस्ट से बाहर

First published: 1 September 2019, 10:35 IST
 
अगली कहानी