Home » इंडिया » Tibetans shift Dharamsala from Delhi to the events of the Dalai Lama After the Red Card of the Central Government, the
 

केंद्र सरकार के रेड कार्ड के बाद दलाई लामा का इवेंट दिल्ली से धर्मशाला शिफ्ट हुआ

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2018, 11:31 IST

दलाई लामा के भारत आने के 60 वर्ष पूरे होने पर तिब्‍बत की निर्वासित सरकार की ओर आयोजित होने वाले कार्यक्रम अब दिल्‍ली में नहीं बल्कि हिमाचल के धर्मशाला में होंगे. दलाई लामा के प्रतिनिधि न्‍गो धोंगचुंग ने इस बात की पुष्टि की है. यह खबर कैबिनेट सचिव पी.के. सिन्हा के उस नोट के सार्वजनिक होने के तीन दिन बाद आयी है जिसमे उन्होंने निर्देश दिया था कि नेताओं और सरकारी कर्मचारियों को तिब्बत से संबंधित कार्यक्रमों से दूर रहना चाहिए.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार तिब्बती नेताओं ने आधिकारिक तौर पर कहा है कि वे भारत की बाध्यता को समझते हैं. दूसरी ओर भारत सरकार भी समझती है कि सिन्‍हा के कदम से तिब्‍बत की सरकार में गुस्‍सा है और उन्‍हें काफी तकलीफ हुई है. शुक्रवार को विदेश सचिव विजय गोखले ने कैबिनेट सचिव को चीन के साथ संबंधों की संवेदनशीलता की ओर इशारा करते हुए एक लिखा था.

इस नोट में खासतौर पर 'थैंक्‍यू इंडिया' कैंपेन का जिक्र किया है जिसका आयोजन तिब्‍बत की निर्वासित सरकार की ओर से दिल्‍ली के त्‍यागराज स्‍टेडियम में एक अप्रैल से होना है. इस कार्यक्रम में दलाई लामा भाग लेंगे और कई भारतीय राजनेताओं और अधिकारियों को भी  इस कर्यक्रम में बुलाने की योजना थी.

गोखले ने सिन्‍हा से कहा था कि सरकारी अधिकारियों और राजनेताओं को इस कार्यक्रम में जाने से बचना चाहिए. चीन तिब्‍बत को अपना आतंरिक हिस्‍सा बताता है और तिब्‍बत की सरकार को मान्‍यता नहीं देता है.

पहले इस कार्यक्रम  को 31 मार्च को आयोजित होना था जिसे अब एक अप्रैल आयोजित किया जा रहा है. माना जा रहा है कि तिब्‍बत की सरकार की ओर से इस कार्यक्रम के लिए बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता लाल कृष्‍ण आडवाणी और पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्‍टर मनमोहन सिंह को आमंत्रित किया था.

धोंगचुंग का कहना है कि कुछ लोग इस बात से निराश हो सकते हैं लेकिन हम भारत में मेहमान हैं. भारतीय लोग अभी तक हमारे लिए काफी दयालु रहे हैं और हम उनकी मजबूरियों को समझते हैं. 

First published: 6 March 2018, 11:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी