Home » इंडिया » Teachers Day 2018: PM Modi Prise Of Muslim Teacher From Mewat Who Reduced Dropouts Girls
 

Teachers Day 2018: इस मुस्लिम टीचर के मुरीद हुए पीएम मोदी, ये है खास वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 September 2018, 14:08 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षक दिवस के मौके पर मेवात के एक स्कूल के शिक्षक की तारीफ की है. पीएम ने इस शिक्षक की तारीफ करते हुए ट्विटर पर एक ट्वीट किया है. साथ में एक तस्वीर भी साझा की है जिसमें वो पीएम के साथ मुस्लिम टीचर खड़ा दिखाई दे रहा है.

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मेवात के एक ऐलिमेंट्री स्कूल के टीचर बसरुद्दीन खान की तारीफ वाला एक ट्वीट किया है. बता दें कि बसरुद्दीन ने लड़कियों के ड्रॉपआउट रेट को कर करने का काम किया है. जिसके लिए उन्हें प्रधानमंत्री की तारीफ मिली है. बता दें मेवात जिला हरियाणा का काफी पिछड़ा जिला है. जहां मां-बाप लड़कियों को पढ़ाने को अच्छा नहीं मानते. लेकिन बसरुद्दीन ने तमाम बच्चों कि स्कूल पहुंचने के लिए प्रेरित किया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा है, "अध्यापक बसरुद्दीन खान ने लड़कियों की शिक्षा के प्रचार करने में अहम भूमिका निभाई है. इसके साथ ही उन्होंने बच्चों के नामांकन और पहचान के प्रति भी महत्वपूर्ण योगदान किया है.” पीएम ने उन्हें नेशनल अवॉर्ड फॉर टीचर्स मिलने के लिए बधाई भी दी है.

बता दें कि मुस्लिम बहुल जिले के सरकारी स्कूलों में ड्रॉपआउट रेट 20 फीसदी रहता है, लेकिन कक्षा के उन खाली डेस्कों को गणित और विज्ञान के इस टीचर ने भर दिया. साथ ही उन्होंने वेक्सिनेशन के प्रति लोगों को जागरुक भी किया. इसके साथ ही वह गैर सरकारी संस्थान 'उड़ान' की सेवाओं में भी शामिल हुए, जिसका मुख्य उद्देश्य ये सुनिश्चित करना है कि लड़कियां की पढ़ाई बीच में ही छोड़कर न जाएं.

बता दें कि जिन तीन गांवों में बसरुद्दीन ने काम किया वहां छात्रों की उपस्थिति लगातार बढ़ने लगी. उन्होंने 1993 में झारपुरी स्कूल से अपने करियर की शुरुआत की थी. उस वक्त स्कूल में कक्षा 6-8 में स्कूल में कुल 20 छात्र थे. जब 2 साल बाद वह स्कूल छोड़कर गए तो वहां छात्रों की संख्या 57 तक हो गई.

उसके बाद जब उन्होंने सिरोली गांव के स्कूल में 18 साल अपनी सेवाएं दी है. जब उन्होंने स्कूल में पढ़ाना शुरू किया, तब वहां 96 छात्र थे और जब वह स्कूल छोड़कर गए तब वहां छात्रों की संख्या 638 तक पहुंच गई.जहां उन्होंने 1995 से 2013 तक पढ़ाया.

ये भी पढ़ें- Teachers Day 2018: शिक्षकों के सम्मान में Google ने बनाया खास डूडल

First published: 5 September 2018, 14:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी