Home » इंडिया » Chief Minister to present a Rs 3.6 crore-worth gold crown to Goddess Bhadrakali on 9th october
 

जानिए मां भद्रकाली को 3.6 करोड़ का स्वर्ण मुकुट क्यों चढ़ाना चाहते हैं सीएम?

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 October 2016, 12:27 IST
(एएनआई)

देश भर में दुर्गा पूजा उत्सव की धूम दिख रही है. पश्चिम बंगाल समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में आकर्षक पंडाल लगाए गए हैं. इसके अलावा हिंदू धर्म के प्रचलित शक्तिपीठों पर भी श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखी जा रही है.

पूर्व और उत्तर भारत के साथ ही दक्षिण भारत के राज्य तेलंगाना में मुख्यमंत्री की तरफ से चढ़ावे में दी जाने वाली एक भेंट भी इन दिनों चर्चा में है.

तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव वारंगल में नौ अक्टूबर को महाअष्टमी के मौके पर भद्रकाली देवी को तीन करोड़ 60 लाख रुपये का सोने का मुकुट चढ़ाने वाले हैं. इसको लेकर खास इंतजाम किए गए हैं.

एएनआई

तेलंगाना की मांग पर लिया था प्रण

अलग तेलंगाना राज्य के लिए आंध्र प्रदेश में आंदोलन के दौरान के चंद्रशेखर राव ने एलान किया था कि अगर तेलंगाना राज्य की मांग पूरी होती है तो वे आंध्र और तेलंगाना में देवी-देवताओं को आभूषण चढ़ाएंगे.

तेलंगाना का पहला मुख्यमंत्री बनने के बाद अपना वचन निभाने के लिए केसीआर ने कैबिनेट की बैठक में इस सिलसिले में फैसला लिया था. राव ने प्रण लिया था कि अगर तेलंगाना राज्य बनता है तो तिरुमला में श्री वेंकटेश्वर स्वामी को गले का हार, विजयवाड़ा के कनकदुर्गा मंदिर में नथुनी, वारंगल के भद्रकाली मंदिर में मुकुट और कुरीवि वीरभद्र स्वामी को मूंछ का चढ़ावा चढ़ाया जाएगा.

इसी वजह से अब मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव दुर्गा पूजा उत्सव के नवें दिन वारंगल के भद्रकाली मंदिर जा रहे हैं.

क्या खास है स्वर्ण मुकुट में?

वारंगल में सीएम के चंद्रशेखर राव जिस स्वर्ण मुकुट को चढ़ाने वाले हैं, उसका वजन 11 किलो 700 ग्राम है. इसका निर्माण जीआरटी ज्वैलर्स ने किया है. गोल्डेन मुकुट बनाने पर कुल तीन करोड़ 60 लाख रुपये का खर्च आया है.

स्वर्ण मुकुट बनाने वाले जीआरटी ज्वैलर्स और राज्य सरकार के सांस्कृतिक सलाहकार केवी रमनचारी ने कैबिनेट मीटिंग के बाद केसीआर को कैंप ऑफिस में स्वर्ण मुकुट दिखाया.

शुक्रवार को राज्य सरकार की तरफ से जारी आधिकारिक प्रेस रिलीज में कहा गया है, "मुख्यमंत्री केसीआर अपनी पत्नी के साथ वारंगल के भद्रकाली मंदिर जाएंगे और अपने वचन को निभाने के लिए देवी को स्वर्ण मुकुट चढ़ाएंगे."

First published: 8 October 2016, 12:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी