Home » इंडिया » The PDP-BJP coalition is here to stay: Naeem Akhter
 

जम्मू-कश्मीर में जारी रहेगा बीजेपी-पीडीपी गठबंधन: नईम अख्तर

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2016, 23:25 IST
QUICK PILL
  • पीडीपी प्रवक्ता नईम अख्तर ने जम्मू कश्मीर में नई सरकार के गठन को लेकर सभी तरह की आशंकाओं को खारिज करते हुए बीजेपी-पीडीपी गठबंधन के जारी रहने का दावा किया है.
  • अख्तर के मुताबिक बीजेपी ने नई सरकार के लिए किसी तरह की शर्त नहीं रखी है. उन्होंने कहा, \'यह शोक का माहौल है. राजनीति पर कोई चर्चा नहीं हुई फिर भी लोग अफवाह फैला रहे हैं. गठबंधन पहले की तरह चलता रहेगा.\'

महबूबा मुफ्ती को जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने में हो रही देरी ने राज्य में जारी बीजेपी-पीडीपी गठबंधन पर सवाल खड़े कर दिए हैं. अटकलों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी का गठबंधन टूट सकता है. लेकिन सच्चाई यह है कि आने वाले दिनों में गठबंधन न केवल बना रहेगा बल्कि और मजबूत भी होगा. 

पीडीपी के वरिष्ठ नेता और जम्मू-कश्मीर सरकार के प्रवक्ता नईम अख्तर ने कहा, 'गठबंधन टूटने की खबर पूरी तरह से बकवास है.' उन्होंने कहा, 'हम उस गठबंधन को कैसे तोड़ सकते हैं जिसे मुफ्ती साहब ने बनाया था? गठबंधन तोड़ने का मतलब उन्हें गलत साबित करना नहीं होगा?'

अख्तर ने कहा कि गठबंधन की सरकार जनता की उम्मीदों को पूरा करने में सफल रही है. अख्तर ने कहा, 'हमारे गठबंधन का एजेंडा हमारी उपलब्धि है. इस मामले में हम बीजेपी को राज्य के बारे में हमारी चिंताओं को समझाने में सफल रहे हैं.' उन्होंने कहा, 'बीजेपी ने धारा 370, पश्चिम पाकिस्तान से आए शरणार्थी और अन्य मुद्दों पर अपने एजेंडे को टाल कर सही फैसला किया है. पठानकोट हमले के बाद भी नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के साथ रिश्ते नहीं तोड़े हैं.' 

मुफ्ती की मृत्यु के बाद महबूबा मुफ्ती ने कुछ बड़ी हस्तियों को छोड़कर किसी से मुलाकात नहीं की. उन्होंने शपथ लेने तक से मना कर दिया जबकि राज्यपाल ने मुख्यमंत्री नहीं होने की स्थिति में राज्य में राज्यपाल शासन लगाए जाने की चेतावनी दी थी.

अख्तर ने कहा कि गठबंधन जारी रहेगा और 'कुछ मामूली गतिरोध को छोड़कर गठबंधन ने बेहतर प्रदर्शन किया है.' पूर्व डिप्टी सीएम मुजफ्फर बेग समेत पार्टी के शीर्ष नेताओं ने यही बात कही. बेग हालांकि गठबंधन सरकार के आलोचक रहे हैं.

इससे पहले वित्त मंत्री हसीब दराबू भी गठबंधन सरकार के कामकाज को लेकर संतुष्टि जता चुके हैं. उन्होंने कहा, 'अगर आप कामकाज के आधार पर पूछेंगे तो मैं बेहद खुश हूं. स्थानीय स्तर पर बीजेपी के नेता काफी सहयोगी रहे हैं.' उन्होंने कहा, 'बीजेपी के नेता कांग्रेस की तरह छोटी मानसिकता के लोग नहीं है जो छोटी-छोटी बातों पर रुकावट पैदा कर देते हैं.'

पीडीपी के एकमात्र वरिष्ठ नेता तारिक हमीद कारा ही गठबंधन के खिलाफ बोलते रहे हैं. शनिवार को महबूबा ने पार्टी के विधायकों के साथ बैठक की. बैठक के दौरान महबूबा पिता को याद करते हुए रो पड़ी थीं. उनके भाई मुफ्ती सादिक भी रो पड़े थे. पीडीपी विधायकों ने सर्वसम्मति से महबूबा को अपना नेता चुना. वहीं बीजेपी ने जम्मू में एक बैठक की और इसकी अध्यक्षता पार्टी के स्टेट वाइस प्रेसिडेंट उत्तर सिंह और सांसद जुगल किशोर ने की. 'पार्टी ने पीडीपी को समर्थन दिए जाने का ऐलान किया.'

इस बीच सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने भी श्रीनगर जाकर महबूबा से मुलाकात कर संवेदना जाहिर की. उन्होंने कहा, 'नई दिल्ली राज्य के विकास और शांति की दिशा में महबूबा की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए काम करता रहेगा.'

रविवार को कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गांधी ने मुफ्ती के घर जाकर उनसे मुलाकात की. इसके साथ ही अटकलोंं का एक नया दौर शुरू हो गया. उनके साथ गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस महासचिव अंबिका सोनी और स्टेट कांग्रेस चीफ जीए मीर और पार्टी नेता सैफुद्दीन सोज भी मौजूद थे. इस मुलाकात के बाद श्रीनगर में अटकलों का बाजार गर्म हो गया लेकिन आजाद ने तुरंत ही इन आशंकाओं को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, 'हम यहां महबूबा मुफ्ती को सांत्वना देने आए थे. इसमें किसी तरह की राजनीति नहीं देखी जानी चाहिए.'

वहीं अख्तर ने इस तरह की आशंकाओं को खारिज कर दिया कि बीजेपी ने नई सरकार के लिए किसी तरह की शर्त रखी है. उन्होंने कहा, 'यह शोक का माहौल है. राजनीति पर चर्चा नहीं हुई. मुझे नहीं पता कि कौन अफवाह फैला रहा है. गठबंधन के साथ कोई दिक्कत नहीं है और यह पहले की तरह चलता रहेगा.'

First published: 11 January 2016, 23:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी