Home » इंडिया » These big five changes are going from 1 october very special for common man india news
 

ध्यान दें: देश में आम आदमी के लिए 1 अक्टूबर से बदल गए ये 5 नियम

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 October 2017, 9:37 IST

आज से देश में काफी कुछ बदलने जा रहा है. ये सभी बदलाव कहीं न कहीं आम आदमी से जुड़े हुए हैं. जहां एक अक्‍टूबर से 6 बैंकों के चेक अमान्‍य हो जाएंगे. तो दूसरी ओर एक अक्‍टूबर से ही देश के सभी नेशनल हाईवे के टोल प्‍लाजा पर इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन चालू हो जाएगा. ये बदलाव आपकी जिंदगी में कुछ इस तरह से होने जा रहे हैं.

1. चेक हो जाएंगे अमान्य: SBI के पांच पूर्व सहयोगी बैंक एवं भारतीय महिला बैंक के चेक और IFSC कोड 30 सितंबर 2017 के बाद मान्य नहीं होंगे. इन्हें 1 अक्टूबर से अमान्य करार दिया जाएगा. एसबीआई ने ग्राहकों से कहा है कि नई चेक बुक के लिए इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, एटीएम या फिर शाखा में जाकर तुरंत आवेदन करें. जिन सहयोगी बैंकों का एसबीआई में विलय हुआ है उनमें स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर , स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर और भारतीय महिला बैंक शामिल हैं.

2. कॉल टर्मिनेशन शुल्क घटेगा: ट्राई ने कॉल कनेक्ट करने के लिए एक टेलीकॉम ऑपरेटर की ओर से दूसरे को अदा किए जाने वाले कॉल टर्मिनेशन शुल्क को 14 पैसे से घटाकर छह पैसे प्रति मिनट कर दिया है. शुल्क की नई दर पहली अक्टूबर से लागू होगी. यही नहीं, जनवरी, 2020 से इस शुल्क को पूरी तरह समाप्त कर दिया जाएगा.

3.मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस लिमिट होगी कम: एसबीआई ने मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस लिमिट को कम कर दिया है. अब मेट्रो शहरों में सेविंग बैंक अकाउंट होल्डर के लिए 3,000 रुपये का मिनिमम एवरेज बैलेंस ही अनिवार्य होगा. इससे पहले यह लिमिट 5,000 रुपये थी. यह नया नियम 1 अक्टूबर से प्रभावी होगा. वहीं अर्ध शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मिनिमम बैलेंस की शर्त 2,000 रुपये और 1,000 रुपये पर बरकरार रहेगी.

4. बैंक खाता बंद कराना होगा आसान: एसबीआई ने पहली अक्टूबर से अकाउंट बंद कराने के चार्जेस में बदलाव किया है. नए नियमों के मुताबिक अगर कोई ग्राहक खाता खुलवाने के एक वर्ष के भीतर उसे बंद करवाता है तो उसे किसी भी तरह का शुल्क नहीं देना पड़ेगा. साथ ही यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसके खाते की सेटलमेंट की जाती है और खाता बंद किया जाता है तो उस स्थिति में भी कोई शुल्क नहीं लगाया जाएगा. रेग्युलर सेविंग बैंक एकाउंट और बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट एकाउंट के बंद कराने पर भी किसी तरह का शुल्क नहीं लिया जाएगा. वहीं, कोई खाताधारक एकाउंट खुलने के 14 दिनों के भीतर उसे बंद करवाता है तो कोई शुल्क नहीं वसूला जाएगा.

5. इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम होगा शुरू: एक अक्टूबर से राष्ट्रीय राजमार्गों की सभी लेनों में इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रणाली लागू हो जाएगी. यही नहीं, इसके लिए जरूरी फास्टैग अब ऑनलाइन उपलब्ध होंगे. इसके लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने ‘माई फास्टैग’ और ‘फास्टैग पार्टनर’ नाम के दो मोबाइल एप भी लॉन्च किए हैं.

First published: 1 October 2017, 9:37 IST
 
अगली कहानी