Home » इंडिया » Three rafael aircraft arriving first time india at gwalior air base
 

Rafale deal: विवादों के बीच फ्रांस ने पहली बार भारत भेजे अपने 3 राफेल लड़ाकू विमान

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2018, 18:07 IST
(file photo )

राफेल सौदे को लेकर देश में राजनीति गरमायी हुई है. काग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर हैं. राहुल गांधी ने राफेल सौदे में घोटाला होने का आरोप लगाया है. इस बीच फ्रांस के 3 राफेल लड़ाकू विमान भारत में पहुंच चुके हैं. जो तीन दिन तक ग्वालियर वायुसेना के एयरवेस में रहेंगे. जहां वायुसेना के पायलट इनसे ट्रेनिंग करेंगे.

मीडिया खबरों के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया में हुए एक अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास में किया गया था. जिसमें फ्रांस और भारत की वायुसेना ने हिस्सा लिया था. फ्रांस ने इस युद्धाभ्यास में तीन राफेल को भी शामिल किया. अब वापसी में तीनों राफेल ग्वालियर आकर रुके हैं. इसको लेकर भारत और फ्रांस के बीच एक साझा अभियान शुरू किया गया. जिसके तहत भारतीय वायुसेना के पायलट ग्वालियर में राफेल लड़ाकू विमान उड़ाएंगे. वहीं. फ्रांस वायुसेना के पायलट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों पर हाथ आजमाएंगे.

आपको बता दें कि भारत और फ्रांस के बीच ग्वालियर में शुरू हो रहे इस संयुक्त साझा अभियान के दौरान पायलट उन्नत मिराज-2000 विमान उड़ाएंगे जबकि भारतीय वायुसेना के पायलट राफेल लड़ाकू विमान पर अभ्यास करेंगे. अगले साल से राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुंचने शुरू हो जाएंगे.

इससे पहले भारतीय वायुसेना के पायलटों के पास राफेल पर हाथ अजमाने का एक अच्छा अनुभव होगा. भारत ने फ्रांस से 36 राफेल खरीदने की डील की है. उम्मीद है कि सितंबर 2019 तक 36 राफेल लड़ाकू विमान देश में आने शुरू हो जाएंगे. पूरे विमान आने में कुछ और साल लगेंगे. इन 36 लड़ाकू विमानों को भारतीय वायुसेना की दो स्क्वाड्रन में बांटा जाएगा. 36 विमानों का ये सौदा 60 हजार करोड़ में किया था.

ये भी पढ़ें-  राफेल सौदा मामलाः 'बड़े घोटाले की बू आ रही है'

First published: 2 September 2018, 18:07 IST
 
अगली कहानी