Home » इंडिया » Three storey building collapses in Bhiwandi Maharashtra, 8 died
 

महाराष्ट्र: भिवंडी में तीन मंजिला इमारत गिरी, अब तक 10 लोगों की मौत, कई लोग सुरक्षित बाहर निकाले गए, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 September 2020, 7:55 IST

महाराष्ट्र (Maharashtra) भिवंडी (Bhiwandi) में रविवार रात तीन मंजिला इमारत गिर गई. जिसके मलबे में दबकर मरने वालों की संख्या बढ़कर 10 हो गई है. वहीं 25 लोगों को मलबे से बाहर निकाल लिया गया है. हालांकि इमारत के मलबे में अभी भी कुछ और लोग दबे होने की आशंका है. जानकारी के मुताबिक, रविवार देर रात ठाणे जिले के भिवंडी शहर में तीन मंजिला इमारत ढह (Building Collapse) गई. हादसे की सूचना मिलते ही एनडीआरएफ (NDRF) की टीम मौके पर पहुंच गई और राहत बचाव अभियान शुरु किया. स्थानीय लोगों के मुताबिक, साल 1984 में बने जिलानी अपार्टमेंट, मकान नंबर 69 नामक इमारत का आधा हिस्सा देर रात ढह गया.

बताया जा रहा है कि गिरने वाले इस तीन मंजिला मकान के हिस्से के 21 फ्लैट हैं. जब ये हादसा हुआ उस वक्त लोग गहरी नींद में सो रहे थे. तभी अचानक रात 3 बजकर 20 मिनट पर भिवंडी के पटेल कंपाउंड में कोहराम मच गया. फिलहाल एनडीआरएफ और स्थानीय नागरिक राहत बचाव कार्य में लगे हुए है. मिली जानकारी के मुताबिक इमारत के मलबे से अब तक 10 लोगों के शव निकाले जा चुके हैं. जबकि राहत कार्य के दौरान 25 जीवित लोगों को सुरक्षित रूप से बाहर निकाला गया है. अभी भी कुछ लोगों के फंसे होने की आशंका है.


Monsoon Session : अब सरकार लायी ऐसा विधेयक- 300 कर्मचारियों वाली कंपनियां बिना मंजूरी करेंगी छंटनी

बता दें कि महाराष्ट्र में इमारत गिरने की ये कोई पहली घटना नहीं है. राज्य में हर साल कई इमारतें गिर जाती है और इनमें तब कर कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं. इसी तरह का  एक दर्दनाक हादसा पिछले महीने हुआ था. जब महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के महाड में एक पांच मंजिला इमारत ढेर हो गई थी. तब महाड शहर में तारिक गार्डन नाम की पांच मंजिला इमारत गिरने से करीब 50 लोग मलबे में दब गए थे. इनमें से कई लोगों की मौत हो गई.

Monsoon session: भारी हंगामे बीच राज्यसभा में पास हुआ कृषि बिल, सरकार ने कांग्रेस पर लगाए ये आरोप

बिहार चुनाव से पहले ICU में भर्ती हुए राम विलास पासवान, बेटे चिराग ने चिट्ठी लिखकर कही ये बात

बता दें कि वो इमारत पुरानी नहीं थी. तालाब किनारे बनी वो इमारत केवल दस साल पुरानी थी. जिला कलेक्टर निधि चौधरी ने बताया था कि इमारत 10 साल पहले ही बनाई गई थी. लेकिन समझ नहीं आ रहा कि ये इमारत गिर कैसे गई. उन्होंने कहा था कि ये तालाब के पास की इमारत थी. डिजाइनिंग में दिक्कत थी या मकान बनाने में खराब मैटेरियल के इस्तेमाल की वजह से इमारत धरासाई हुई होगा. जिसकी जांच की जाएगी.

देश में कोरोना वायरस की बिगड़ रही है स्थिति, PM मोदी 23 सितंबर को 7 राज्यों के CM से करेंगे बात

First published: 21 September 2020, 7:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी