Home » इंडिया » Tirupati temple High-security treasury breached silver crown jewel goes missing
 

प्रसिद्ध तिरुपति मंदिर की कड़ी सुरक्षा वाली तिजोरी से चोरी, गायब हुए भगवान वेंकटेश्वर के गहने

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 August 2019, 15:25 IST

आंध्र प्रदेश के प्रसिद्ध तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम की कड़ी सुरक्षा वाली तिजोरी से भगवान श्री वेंकटेश्वर के गहने गायब हो गए हैं. इसमें एक चांदी का मुकुट, दो सोने की अंगूठियां और दो सोने के हार शामिल हैं. जेवर गायब होने की खबर साल 2017 में एक ऑडिट में सामने आई थी लेकिन चोरी की बात टीटीडी ट्रस्ट बोर्ड के एक पूर्व सदस्य ने मंगलवार को ऑडिट से जुड़े दस्तावेज जारी कर कही.

चांदी का मुकुट साल 2002 में एक अज्ञात श्रद्धालु ने चढ़ाया था. ऑडिट में यह बात सामने आई कि 5.4 किलो का चांदी का मुकुट, दो सोने की अंगूठियां और दो हार, 6.50 लाख रुपये के कुल सामान गायब हैं. 18 अगस्त, 2016 से 10 अक्टूबर 2016 तक चले इस ऑडिट के बाद मंदिर ने एम श्रीनिवासुलू को जेवर गायब होने का जिम्मेदार ठहराया था.

श्रीनिवासुलू के पास साल 2013 से 2016 तक टीटीडी के कोषागार की जिम्मेदारी थी. वह सहायक कार्यकारी अधिकारी के तौर पर तैनात थे. मंदिर ट्रस्ट बोर्ड के पूर्व सदस्य और भाजपा नेता भानुप्रकाश रेड्डी ने जरूरी दस्तावेज साझा करते हुए दावा किया कि भगवान के जेवर चोरी हो चुके हैं. टीटीडी कार्यकारी अधिकारी अनिल कुमार सिंघल ने भी इस बात की पुष्टि की. उन्होंने जांच के आदेश दे दिए हैं.

सिंघल ने यह भी बताया कि सामान की कमी के अलावा ज्यादा सामान भी पाया गया है. इसमें चांदी का 4 किलो का बड़ा सामान और 7.7 किलो का छोटा सामान पाया गया है. सिंघल ने कहा कि मंदिर ने साल 2013 में जेवर का फुल स्टॉक वेरिफिकेशन कराया था. तब मंदिर में चांदी 20,602 किलो थी.

सिंघल ने बताया कि मंदिर में हर साल 2,600 से 3,000 किलो चांदी आती है. साल 2013 से 2016 के बीच मंदिर को 8,823 किलो चांदी का सामान मिला. इस तरह साल 2016 के आखिर में मंदिर के पास 28 टन से ज्यादा चांदी का सामान था. इसके बाद साल 2016 में 7,775 किलो चांदी बेची गई. फिर नवंबर 2016 में 10,000 किलो, 2017 में 8000 किलो और 2018 में 10,798 किलो चांदी बेची गई.

First published: 28 August 2019, 15:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी