Home » इंडिया » Modi government decided to use indelible ink marks similar to elections on Bank's counters
 

वोट की तरह पुराने नोट बदलने के लिए लगेगी अमिट स्याही

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 November 2016, 12:42 IST

नोटबंदी के बाद जनता को नोट बदलने के लिए आ रही मुश्किलों के लिए केंद्र सरकार ने एक और कदम उठाया है. आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने कहा है कि अब बैंक में नोट बदलवाने के लिए आने वाले लोगों की उंगली पर स्याही का निशान लगाया जाएगा.

आर्थिक सचिव शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान फैसले की जानकारी देते हुए बताया, "बैंक और एटीएम में लोगों की लंबी कतार लगने की एक वजह यह पता चली है कि एक ही लोग कई बार अलग-अलग जगहों पर नोट बदलने के लिए पहुंच रहे हैं."

शक्तिकांत दास ने इस दौरान कहा, "इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए हमने बैंक काउंटर पर आने वाले लोगों की उंगली पर चुनाव की तरह अमिट स्याही का निशान लगाने का फैसला लिया है."

'काले धन वालों ने बनाया संगठित ग्रुप'

शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया, "हम इस बात का अध्ययन कर रहे थे कि बैंकों में इतनी लंबी कतार लगने की आखिर वजह क्या है. हमें ऐसी रिपोर्ट भी मिली कि कई लोगों ने काले धन को सफेद बनाने के लिए एक संगठित समूह बनाया है. उन्हीं लोगों को पुराने नोट बदलने के लिए भेजा जा रहा है." 

शक्तिकांत दास ने साथ ही कहा कि बैंकों पर दबाव कम करने के लिए एक टास्क फोर्स बनाई गई है, जो पुराने नोट की शिफ्टिंग और इकट्ठा करने पर ध्यान देगी. इसके अलावा टास्क फोर्स कुछ जगहों पर जाली नोटों की बाजार में मिलान पर भी निगरानी रखेगी.

नमक की कोई कमी नहीं

शक्तिकांत दास ने साथ ही कहा कि देश में नमक का पर्याप्त स्टॉक है. जरूरी वस्तुओं की सप्लाई पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है. कुछ उपद्रवी तत्वों ने अफवाह फैला दी थी.

इसके अलावा आर्थिक सचिव ने कहा, "सोशल मीडिया पर कुछ संस्थानों के हड़ताल की झूठी खबरें भी चल रही हैं. तस्वीर को जूम करने पर पता चला कि यह 2015 की है. ऐसी खबरें पूरी तरह से झूठ हैं. कृपया इन पर भरोसा न करें."

बड़े शहरों में आज से लगेगी स्याही

इस दौरान शक्तिकांत दास ने कहा, "लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है. बैंकों में कैश की पर्याप्त सप्लाई है. बड़े शहरों में आज से ही अमिट स्याही लगाने का काम शुरू हो रहा है."

आर्थिक सचिव ने कहा कि दिन-ब-दिन स्थिति सुधर रही है. मुझे विश्वास है कि आने वाले दिनों में यह और आसान हो जाएगा. अगर कोई अस्पताल या फार्मेसी एक हजार और पांच सौ के पुराने नोट लेने से मना करता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

First published: 15 November 2016, 12:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी