Home » इंडिया » Town hall live: pm modi adressed public
 

रात में गोरखधंधा करते हैं और दिन में गौरक्षा का चोला ओढ़ लेते हैं: पीएम मोदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 August 2016, 21:01 IST
(एएनआई)
QUICK PILL
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज टाउन हॉल के जरिए जनता से सीधे मुखातिब हुए. सरकारी नीतियों में जन भागीदारी बढ़ाने के लिए लॉन्च किए ‘माय गॉव’ एप के दो साल पूरे होने के मौके पर पीएम मोदी दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में देश भर के दो हजार लोगों से सीधे बातचीत की.
  • संवाद के अाखिर में पीएम मादी ने पहली बार गौरक्षा के नाम दलितों और मुस्लिमों की पिटाई पर चुप्पी तोड़ी.
  •  मोदी ने कहा कि गौरक्षा के अत्याचार करने वाले लोगों को आड़े लेते हुए कहा कि ये लोग रात में गोरखधंधा करते हैं और दिन में गौरक्षकों का चोला ओढ़ लेते हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज टाउन हॉल के जरिए जनता से सीधे मुखातिब हुए. सरकारी नीतियों में जन भागीदारी बढ़ाने के लिए लॉन्च किए ‘माय गॉव’ एप के दो साल पूरे होने के मौके पर पीएम मोदी दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में देश भर के दो हजार लोगों से सीधे बातचीत कर रहे हैं. इस कार्यक्रम को अमेरिका की तर्ज पर ‘टाउन हॉल’ का नाम दिया गया है.

सीधे संवाद की शुरुआत में मोदी से तीन सवाल पूछे गए. इनके जवाब की में उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र का सबसे सरल मतलब यह माना जाता है कि एक बार वोट देकर सरकार को काम करने का ठेका दे दिया जाता है. मैंने तुम्हें वोट दिया अब तुम देखो. कुछ नहीं हुआ तो 5 साल बाद फिर वोट देकर नई सरकार बना लेंगे. लोग यह मानकर चलते हैं कि उन्होंने नहीं किया तो अब तुम कर दो. मैं कहता हूं कि इससे लोकतंत्र मजबूत नहीं सकता है.

जनभागीदारी की जरूरत

पीएम ने कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए भारत जैसे विशाल देश में जनभागीदारी की जरूरत है. टेक्नोलॉजी के जरिए यह संभव है और स्वच्छ भारत अभियान जन भागीदारी का अच्छा उदाहरण है. 

ज्यादातर राजनीति में चुनाव जीतने के बाद सरकारों का इस बात पर ध्यान रहता है कि वो अगला चुनाव कैसे जीतेंगी. इसलिए उनकी योजनाओं की प्राथमिकता इसी बात पर रहती है कि वो अपना जनाधार कैसे बढ़ाएं. इसके कारण जिस उद्देश्य से कारवां चलता है वो कुछ ही कदमों पर जाकर लुढ़क जाता है

उन्होंने लोगों के सवालों के सीधे जवाब देते हुए कहा कि दुनिया की मंदी के बीच भी भारत विकास की दर बनाए रखने में सफल रहा है. उन्होंने देश के विकास के लिए गुड गवर्नेंस का महत्व समझाया और कहा कि अच्छे गवर्नेंस के बिना करोड़ों की लागत से बना अस्पताल भी बेकार हो जाता है.

पीएम मोदी ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेज़ी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है. उन्होंने कहा कि 30 साल तक 8% से ज्यादा का ग्रोथ भारत को दुनिया में अव्वल बनाएगा.

भारत के तेज गति से विकास का सामान्य आदमी के जीवन पर असर के सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था में मंदी आई है. लोगों की खरीदने की क्षमता में गिरावट आई है, लेकिन इसके बावजूद भारत लगातार विकास करने में समर्थ रहा है. उन्होंने इसके लिए देश के लोगों का अभिनन्दन भी किया. इस विकास के लिए लोगों की मेहनत को श्रेय दिया.

जिसकी जिम्मेदारी है, उससे मांगें हिसाब

हर मुद्दे पर प्रधानमंत्री को घेरने की विपक्ष की कोशिश को आड़े हाथ लेते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि गांव, नगर पालिका, पंचायत और राज्य में  कुछ भी हो जाए, इसके लिए पीएम को जिम्मेदार ठहराना सही नहीं हैं. यह टीआरपी के लिए सही हो सकता है लेकिन हर बात के लिए पीएम को जिम्मेदार ठहराने से काम नहीं चलेगा.

अब चाहे ग्राम स्तर की समस्या हो या नगरपालिका स्तर की, लेकिन हर बात के लिए प्रधानमंत्री से जवाब मांग लिया जाता है. उन्होंने कहा कि इससे देश की स्थिति नहीं बदलेगी और इससे आम आदमी की स्थिति में कोई परिवर्तन भी नहीं होगा. 

माेदी ने कहा कि किसी भी घटना के लिए जो व्यक्ति जिम्मेदार हो, उसके लिए उसे जिम्मेदार ठहराएं और उसके लिए उसी से सवाल पूछें, इससे गवर्नेंस की भूमिका मजबूत होगी.

प्रधानमंत्री ने माए गवर्मेंट ऐप जारी करते हुए कहा कि लोकतंत्र का आसान सा मतलब यह निकाल लिया गया है कि पांच-पांच साल के बाद देश को ठीक करने के लिए ठेकेदार चुन लिया जाए. 

अगर ठेकेदार ने ठीक से काम किया तो ठीक नहीं तो कोई दूसरा ठेकेदार चुन लिया जाता है. प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार चुनने के साथ अंत समय तक लोगों को अपनी भागीदारी निभानी होगी.

संवाद के अाखिर में पीएम मादी ने पहली बार गौरक्षा के नाम दलितों और मुस्लिमों की पिटाई पर चुप्पी तोड़ी.

 उन्होंने गौरक्षा के अत्याचार करने वाले लोगों को आड़े लेते हुए कहा कि ये लोग रात में गोरखधंधा करते हैं और दिन में गौरक्षकों का चोला ओढ़ लेते हैं.

First published: 6 August 2016, 21:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी