Home » इंडिया » Train-18 attacked at the time of trail, PM modi is to inaugurate on 29 December
 

शुरू होने के पहले ही हमले का शिकार हुई देश की सबसे तेज रफ़्तार ट्रेन-18, चकनाचूर हुए खिड़की के शीशे

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 December 2018, 8:02 IST

देश की सबसे तेज रफ़्तार कही जाने वाली ट्रेन-18 चलने के पहले ही हमले का शिकार हो गयी है. भारतीय रेलवे का दावा है कि ये सबसे तेज रफ़्तार से चलने वाली ट्रेन है जिसके ट्रायल के लिए उसे गुरुवार को चलाया गया था. लेकिन इसी बीच कुछ शरारती तत्वों ने ट्रेन पर पत्थरों से हमला बोल दिया. इस हमले से उद्धघाटन के लिए तैयार नई-नवेली ट्रेन-18 की खिड़की का शीशा चकनाचूर हो गया.

गौरतलब है कि इस ट्रेन की शुरुआत 29 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी हरी झंडी दिखा कर करने वाले हैं. इसी के चलते इसे रेलवे दिल्ली से आगरा एक बीच परिक्षण के लिए चला रही थी. इसी दौरान कुछ शरारती तत्वों ने ट्रेन पर पत्थरों से हमला करना शुरू कर दिया. हालांकि रेलवे ने इस घटना एक कुछ देर बाद ही लोगों से रेल संपत्ति को नुकसान न पहुंचाने की अपील की.

गौरतलब है कि ये सबसे तेज रफ़्तार ट्रेन, ट्रेन-18 भारत के ‘इंटीग्रल कोच फैक्टरी’ (आईसीएफ) चेन्नई में बनी है. इस ट्रेन में अत्याधुनिक डिब्बे लगाने गए हैं. ये ट्रेन आधुनिक तकनीकी से लैस है. हाल ही में ‘ट्रेन 18’ ने दिल्ली राजधानी मार्ग के एक रेल हिस्से पर सफलतापूर्ण परीक्षण किया था. इस परिक्षण के दौरान ये ट्रेन 180 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की रफ्तार से चलकर भारत की सबसे तेज रफ़्तार ट्रेन बन गयी. दिल्ली वाराणसी के बीच चलने वाली ये ट्रेन शताब्दी जैसी ट्रेनों की जगह ले लेगी.

ट्रेन 18 के परिक्षण के समय हुए हमले के बारे में आईसीएफ प्रवक्ता जी वी वेंकटेसन ने कहा, ''आज, जब ट्रेन 18 का आगरा और दिल्ली के बीच गति परीक्षण चल रहा था तो कुछ अराजक तत्वों ने इस पर पत्थर फेंके जिससे ट्रेन 18 के एक तरफ का शीशा क्षतिग्रस्त हो गया.''

नए साल पर रेलवे ला रहा है बेहतरीन तोहफा, ट्रेनों में ही मिलेगी शॉपिंग माल जैसी सुविधा

प्रवक्ता ने कहा, ''ट्रेन, रेलवे स्टेशन जैसी सार्वजनिक संपत्तियों, विशेषकर ट्रेन 18 जैसी नई प्रतिष्ठित ट्रेन को नुकसान पहुंचाने का कोई भी कृत्य निंदनीय है. लोगों से अनुरोध है कि ट्रेन, रेलवे स्टेशन सहित रेल संपत्तियों को न तो नुकसान पहुंचाएं और ना ही उन्हें विकृत करें, यह सार्वजनिक संपत्ति है जो आपकी ही है.''

इस हमले को लेकर रेल अधिकारियों जांच शुरू कर दी है. गौरतलब है कि 100 करोड़ की लगात से बनी ये ट्रेन वाई-फाई, जीपीएस, LED लाइट, चार्जिंग पॉइंट्स, मौसम के हिसाब से तापमान एडजस्ट करने वाली अत्याधुनिक तकनीकि से लैस है.

First published: 21 December 2018, 8:02 IST
 
अगली कहानी