Home » इंडिया » Train Passengers will Suffer Delay in train for next 6 to 8 month
 

अभी इतने महीने जारी रहेगी ट्रेन की लेटलतीफी, रेलवे ने बताई ये वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 May 2018, 11:37 IST

रेल यात्रियों को अभी ट्रेनों के लेट होने से राहत नहीं मिलने वाली. भारतीय रेलवे ने इस बारे में एक बयान जारी कर जानकारी दी है. रेलवे ने अपने बयान में कहा है कि ट्रेनों के लेट होने की समस्या को यात्री अभी 6 से 8 महीने और झेलेंगे. इस दौरान रेलवे अपने ट्रैक, इंजन और कोच की मरम्मत और रखररखाव के लिए बड़ा अभियान चलाने जा रहा है.

बता दें कि ट्रेनों के लेट होने से लोगों को भारी परेशानियों का समना करना पड़ता है. लेटलतीफी के मामले में भारतीय रेलवे का वित्तीय वर्ष 2017-18 में सर्वाधिक खराब रहा है. ये पिछले दो वित्तीय वर्ष की तुलना में सबसे अधिक रहा है. रेलवे के आधिकारिक डाटा के मुताबिक भारत की करीब 30 प्रतिशत ट्रेन अपने निर्धारित समय पर नहीं चल रही हैं. यानी 30 फीसदी ट्रेन लेट चलती हैं.

ट्रेनों के लेट चलने की सबसे बड़ी वजह ट्रैक का खराब होना है. जिन पर तेज गति से ट्रेनों को नहीं चलाया जा सकता है. इसीलिए अब रेलवे ट्रैक की मरम्मत और सुधार का बड़ा अभियान चलाने की तैयारी कर रहा है. यही नहीं रेलवे ट्रेकों पर ट्रेनों का बड़ता बोझ भी एक बड़ी समस्या बना हुआ है.

6-8 महीने और झेलनी पड़ेगी ट्रेनों के लेट होने की परेशानी

ट्रेने के देरी से चलने की आदत को खत्म करने के लिए रेलवे काफी प्रयास कर रहा है. इस बारे में रेलवे बोर्ड (यातायात) के सदस्य मोहम्मद जमशेद ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि, ”अगर हम 5000 किमी रेलवे ट्रैक की संपूर्ण मरम्मत साल 2018-19 में करते हैं तो अगले छह से आठ महीने यात्रियों को ट्रेनों की लेटलतीफी बर्दाश्त करनी ही होगी.”

बता दें कि अप्रैल 2017 से मार्च 2018 के बीच मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के समय से आने का प्रतिशत 71.39 प्रतिशत रहा है. जबकि साल 2016-2017 में ये प्रतिशत 76.69 प्रतिशत था. इन आंकड़ों में पूरे 5.30 प्रतिशत की गिरावट आई है. जबकि साल 2015-2016 में 77.44 प्रतिशत ट्रेन समय पर चल रही थी.

 

यात्रियों की नाराजगी से निपटना रेलवे के लिए चुनौती

ट्रेनों के देरी चलने की वजह से यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसीलिए उनकी नाराजगी रेलवे के प्रति जायज है. रेलवे के सामने यात्रियों का गुस्सा शांत करना भी एक बड़ी चुनौती है. इस चुनौती से निपटने के लिए रेलवे सभी बड़े स्टेशनों पर वीडियो मैसेज प्रसारित करेगा.

वीडियो मैसेज कुछ प्रकार से होगा, "कृपया धैर्य बनाए रखें, आपका धैर्य आपके भविष्य को और बेहतर बनाएगा.” बता दें कि ये संदेश जब स्टेशन पर लगी टीवी स्क्रीन पर चलेगा तो आॅडियो में संदेश के साथ रेलवे ट्रैक की मरम्मत करते हुए रेलवे कर्मचारी या फिर लूप लाइन पर खड़ी ट्रेन की तस्वीर को भी प्रसारित की जाएगी. रेलवे के अधिकारियों का मानना है कि ऐसा करने से यात्रियों के दिमाग में ट्रेन के लेट होने की तस्वीर बदलेगी और वो रेलवे को इस बारे में सहयोग करेंगे.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक: भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, सरकार ने जारी किया रेड अलर्ट

First published: 30 May 2018, 11:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी