Home » इंडिया » Triple Talaq Bill in Loksabha, Cabinet Minister Smriti Irani attacks on Congress
 

तीन तलाक: लोकसभा में कांग्रेस पर बरसीं स्मृति ईरानी- वोट बैंक की राजनीति के लिए बिल लटकाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 December 2018, 18:09 IST

लोकसभा में तीन तलाक बिल को लेकर चर्चा हो रही है. इस बाबत मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर हमला बोला. केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने तीन तलाक बिल पर बोलते हुए कहा कि सरकार महिलाओं की सुरक्षा के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार है.

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि 1986 के कानून में ताकत नहीं थी. अगर कानून में ताकत होती तो सायरा बानो को कोर्ट नहीं जाना पड़ता. उन्होंने कहा कि आज भी 477 महिलाएं कोर्ट के फैसले के खिलाफ पीड़ित हैं. कहीं ना कहीं वोट बैंक की राजनीति के लिए अभी तक इस बिल को लटका कर रखा गया.

 

ईरानी ने कहा कि 'तलाक ए बिद्धत' मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ है. ईरानी ने जोर देकर कहा कि मोदी सरकार एक भी बहनों के साथ अन्याय नहीं होने देगी. बता दें कि लोकसभा में बुधवार को स्पीकर की मंजूरी के बाद तीन तलाक बिल पेश किया गया.

भाजपा सदस्यों ने जहां बिल को महिलाओं के हक में बताया, वहीं कांग्रेस, टीएमसी और आरएसपी सांसद एन के प्रेमचंद्रन ने बिल से जुड़े कई प्रावधानों पर अपनी आपत्ति दर्ज कराई. आरएसपी सांसद ने कहा कि बिल पहले ही सदन से पारित हो चुका है. अब इसमें मामली फेरबदल कर फिर से पेश नहीं किया जा सकता.

पढ़ें- मध्य प्रदेश: सरकार बनाने के 10 दिन के भीतर ही कांग्रेस में शुरू हो गई बगावत, कद्दावर नेता ने दिया इस्तीफा

सरकार की ओर से रविशंकर प्रसाद ने विपक्षी दलों को जवाब देते हुए इस बिल को राजनीति से अलग बताया. उन्होंने कहा कि इस मामले को राजनीति के तराजू में नहीं तोला जाना चाहिए. यह बिल इंसाफ के तराजू की मांग करता है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि यह बिल महिलाओं के हक और न्याय से जुड़ा है. नारी न्याय के लिए सदन को एक सुर में बोलना चाहिए. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि तीन तलाक पर यह बिल किसी धर्म के खिलाफ नहीं, बल्कि महिलाओं के सम्मान से जुड़ा है.

First published: 27 December 2018, 18:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी