Home » इंडिया » Triple talaq bill to be presented in Rajya-sabha, big plan of modi for election 2019
 

राज्यसभा में आज पेश होगा तीन-तलाक़ बिल, 2019 चुनाव के पहले मोदी सरकार का बड़ा दांव

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 December 2018, 8:47 IST

तीन तलाक बिल मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2018 आज राज्यसभा में पेश किया जाएगा. लोकसभा में पास होने के बाद आज राज्यसभा में ट्रिपल तलाक़ बिल की असली परीक्षा है. गौरतलब है कि लोकसभा में यह विधेयक 245 मतों से पास हुआ था. वहीं इस विधेयक के विपक्ष में 11 वोट पड़े थे. मोदी सरकार के मुस्लिम महिलाओं से लिए वादे के लिहाज से देखें तो ये बिल मोदी सरकार के लिए 2019 के आम चुनावों के लिए अहम दांव साबित हो सकता है.

लोकसभा में इस बिल के विपक्ष में कांग्रेस ने भी इसमें कुछ संशोधनों की मांग उठाई थी. वहीं एआईएडीएमके, समाजवादी पार्टी और डीएमके ने बिल को साझा सेलेक्ट कमेटी में भेजने की मांग की थी. इसी के साथ उन्होंने सदन से वाक आउट भी कर दिया था. इसी गणित के हिसाब से ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि राज्यसभा में कहीं ये बिल अटक न जाए.

संशोधन मुद्दे पर सरकार की मुश्किलें बढ़ीं

सरकार की मुश्किलें इस बिल को लेकर एआईएडीएमके के रूख से बढ़ सकती हैं. पिछली दफा जब यह बिल राज्यसभा में लाया गया था तो इसे चर्चा के लिए सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा गया था. इस तीन तलाक़ विधेयक को कांग्रेस का समर्थन तो मिला था लेकिन कांग्रेस ने इसमें कुछ आवश्यक संशोधन की मांग उठाई थी. इन्हीं मांगों के आधार पर इस बिल को सरकार ने कुछ संशोधनों के साथ लोकसभा से पास करा लिया था. लेकिन इस बिल में अब भी कुछ ऐसे अहम् बिंदु हैं जिन्हें लेकर विपक्ष की सहमति नहीं बन पाई है.

इसी कारण से लोकसभा में जब यह बिल आया तो विपक्ष के साथ कांग्रेस ने इसे इस विधेयक को असंवैधानिक करार करते हुए वॉकआउट कर दिया था.

सरकार के पास कितना है संख्याबल

अगर राज्य सभा में सरकार के संख्याबल को देखें तो इस समय राज्य सभा में कुल सदस्यों की संख्या 244 है, जिसमें 4 नॉमिनेटेड सदस्य भी शामिल हैं. वहीं एनडीए के पास इस समय 97 सदस्य हैं, जिसमें बीजेपी के 73, जेडीयू के 6, 5 निर्दलीय, शिवसेना के 3, अकाली दल के तीन, 3 नामित सदस्य, बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट के 1, सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के 1, नागा पीपल्स फ्रंट के 1, आरपीआई के 1 सांसद शामिल हैं.

मोदी सरकार की कोशिशों के बाद भी नहीं रुक रहे तीन तलाक़, साल भर में आए सैंकड़ों मामले

लेकिन इसी तर्ज पर अगर विपक्ष को देखें तो राज्यसभा में ये आंकड़े सरकार की मुश्किल बढ़ा सकते हैं. विपक्ष के पास इस समय 115 सांसद हैं, जिसमें कांग्रेस के 50, टीएमसी के 13, समाजवादी पार्टी के 13, टीडीपी के 6, आरजेडी के 5, सीपीएम के 5, डीएमके के 4, बीएसपी के 4, एनसीपी के 4, आम आदमी पार्टी के 3, सीपीआई के 2, जेडीएस के 1, केरल कांग्रेस (मनी) के 1, आईएनएलडी के 1, आईयूएमएल के 1, 1 निर्दलीय और 1 नामित सदस्य शामिल हैं.

First published: 31 December 2018, 8:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी