Home » इंडिया » Tushar Gandhi says, we should not begin fresh probe in Mahatma Gandhi's murder
 

SC से तुषार गांधी ने कहा: महात्मा गांधी की हत्या की दोबारा जांच नहीं होनी चाहिए

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 October 2017, 14:07 IST

महात्मा गांधी की हत्या की दोबारा जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में दाख़िल याचिका के ख़िलाफ़ अब उनके पौत्र तुषार गांधी ने अदालत का दरवाज़ा खटखटाया है. उन्होंने कहा है कि महात्मा गांधी की हत्या की दोबारा जांच नहीं होनी चाहिए. इसके जवाब में अदालत ने उनसे पूछा कि इस केस में उनका पक्षकार बनने का आधार क्या है?

सुप्रीम कोर्ट में तुषार गांधी ने राष्ट्रपिता की हत्या की दोबारा जांच का सोमवार को विरोध किया है. तुषार गांधी की ओर से वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह द्वारा इस मामले में पक्षकार बनाए जाने की मांग पर न्यायाधीश एस.ए.बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने उनसे अधिस्थिति स्पष्ट करने को कहा. इसके जवाब में जयसिंह ने हत्या की दोबारा जांच करने वाले याचिकाकर्ता की अधिस्थिति पर सवाल उठाए.

जयसिंह ने कहा कि महात्मा गांधी की हत्या के 70 साल बाद मामले की दोबारा जांच नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि यह बुनियादी आपराधिक कानून है. अदालत ने मामले की सुनवाई चार सप्ताह के लिए स्थगित कर दी क्योंकि सलाहकार (एमीकस क्यूरी) अमरेंद्र शरण ने अदालत को बताया कि उन्हें राष्ट्रीय अभिलेखागार से कुछ दस्तावेज मिले हैं, लेकिन अभी पूरे दस्तावेज मिलने बाकी हैं.

महात्मा गांधी की हत्या की जांच के लिए दाख़िल याचिका के पीछे हिंदूवादी संगठनों की भूमिका मानी जा रही है. कहा जा रहा है कि वे महात्मा गांधी की हत्या के मामले को विवादित बनाने की मंशा रखते हैं.

First published: 30 October 2017, 14:07 IST
 
अगली कहानी