Home » इंडिया » Tuticorin Sterlite Copper plant : who issued firing orders in Thoothukudi, say FIRs
 

तूतीकोरिन में भीड़ पर फायरिंग का आदेश किसने दिया, FIR में हुआ खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2018, 11:22 IST

22 मई और 23 मई को तूतीकोरिन के स्टरलाइट प्रदर्शनकारियों पर पुलिस गोलीबारी के संबंध में थूथुकुडी सिपकोट, थूथुकुडी नॉर्थ और थूथुकुड़ी दक्षिण पुलिस स्टेशनों में दायर एफआईआर में खुलासा हुआ है कि भीड़ पर गोली चलाने का आदेश उप तहसीलदार स्तर के अधिकारियों द्वारा जारी किए गए थे. जबकि तीन एफआईआर में पूरी तरह से प्रदर्शनकारियों को हिंसा के लिए दोषी ठहराया गया है.

एफआईआर में कहा गया है कि अधिकारियों को फायरिंग के आदेश जारी करने के लिए मजबूर किया गया. हालांकि कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है कि एफआईआर में घटनाओं को झूठे तरीके से पेश किया गया है. विशेष सचिव तहसीलदार (चुनाव) पी सेकर की शिकायत के आधार पर थूथुकुडी सिपकोट पुलिस स्टेशन में दायर प्राथमिकी में कहा गया है कि 10,000 प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार सुबह जारी आदेशों का उल्लंघन किया और घातक हथियारों के साथ मार्च किया.

इसमें आरोप लगाया गया है कि उन्होंने पेट्रोल बम का इस्तेमाल किया और वाहनों को जलाया. एफआईआर में यह भी कहा गया है कि प्रदर्शनकारियों ने हत्या के इरादे से पुलिस कर्मियों पर हमला किया. श्री सेकर ने कहा कि पुलिस ने चेतावनी के साथ प्रदर्शनकारियों पर गैस और लाठीचार्ज की कोशिश की थी.

यह बताया गया है कि उन्हें अंतिम उपाय के रूप में फायरिंग का आदेश जारी करना पड़ा. रिपोर्ट के अनुसार अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने पहले हवा में फायरिंग की और बाद में भीड़ पर, जिसमें कलेक्टरेट परिसर में दो घायल हो गए थे.

एफआईआर के मुताबिक पुलिस ने घायल लोगों को एम्बुलेंस में अस्पताल ले जाने की कोशिश की, लेकिन प्रदर्शनकारियों ने एम्बुलेंस पर भी हमला कर दिया. हालांकि नागरिक अधिकार समूह पीपुल्स वॉच के कार्यकारी निदेशक हेनरी टिपहने ने आरोप लगाया कि घायलों के लिए कोई एम्बुलेंस नहीं थी. उन्होंने पुलिस के इन दावों पर भी सवाल उठाया कि उन्होंने चेतावनी का सहारा लिया था.

ये भी पढ़ें : तूतीकोरिन के स्टरलाइट कॉपर प्लांट के बंद होने से जा सकती हैं 50,000 नौकरियां

First published: 29 May 2018, 11:20 IST
 
अगली कहानी