Home » इंडिया » Twitter war between Union HRD minister Smriti Irani and Bihar minister Ashok Chaudhary over calling her dear
 

डियर कहने पर स्मृति ईरानी ने मंत्री को सिखाई 'तमीज'

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2016, 17:11 IST
(फाइल फोटो)

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी के बीच ट्विटर पर 'डियर' शब्द के इस्तेमाल पर तीखी बहस छिड़ गई. दरअसल अशोक चौधरी ने ट्विटर पर स्मृति ईरानी से सवाल पूछा था कि नई एजुकेशन पॉलिसी कब से लागू होगी.

बिहार के शिक्षा मंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, "डियर स्मृति ईरानी जी, हमें नई एजुकेशन पॉलिसी कब मिलेगी? आपके कैलेंडर में साल 2015 कब खत्म होगा?"

पढ़ें: आक्रामक भाषण के बाद स्मृति ईरानी ट्विटर पर ट्रेंड हुईं

अपने अगले ट्वीट में अशोक चौधरी ने लिखा, "डियर स्मृति ईरानी जी, कभी राजनीति और भाषण से वक़्त मिले, तो शिक्षा नीति की तरफ भी ध्यान दें."

बिहार के शिक्षा मंत्री के इस ट्वीट पर जवाब देने में स्मृति ईरानी ने जरा भी देरी नहीं लगाई. स्मृति ने ट्विटर पेज पर सवालिया लहजे में कहा, "महिलाओं को डियर कह के कब से संबोधित करने लगे अशोक जी?"

इस पर अशोक चौधरी ने जवाब देते हुए कहा कि उन्होंने अपमान नहीं सम्मान के तौर पर इस शब्द का इस्तेमाल किया और प्रोफेशनल बातचीत की शुरुआत 'डियर' शब्द से ही होती है.

अशोक चौधरी ने कहा, "स्मृति जी, मुद्दे को गोल-गोल घुमाने से अच्छा है, कभी मुद्दे पर जवाब दीजिए."

ट्विटर पर ये जंग बढ़ती चली गई. एजुकेशन पॉलिसी के मुद्दे पर स्मृति ईरानी ने अशोक चौधरी को घेरने की कोशिश की और कहा कि केंद्र की ओर से बुलाई गई किसी भी रिव्यू मीटिंग में बिहार के शिक्षा मंत्री या उनके सचिव मौजूद नहीं रहे. 

स्मृति ईरानी ने अगले ट्वीट में कहा, "अगर आपको सच में एजुकेशन पॉलिसी की चिंता है, तो अपने व्यस्त शेड्यूल से थोड़ा वक्त इसके लिए भी निकाल लीजिए."

ट्विटर पर चली इस जुबानी जंग के दौरान स्मृति ईरानी ने बिहार की शिक्षा नीति पर सवाल उठाते हुए अशोक चौधरी से पूछा, "मैं इसे अब सार्वजनिक करूंगी. मैं आपसे गुजारिश करती हूं कि बिहार में दो लाख शिक्षकों के खाली पदों पर भर्ती कीजिए. केंद्रीय विद्यालयों के लिए जमीन मुहैया कराइए."

जवाब में अशोक चौधरी ने स्मृति ईरानी को घेरने की कोशिश की और कहा कि उन्होंने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह झूठे वादे करने की कला सीख ली है. चौधरी ने कहा, "स्मृति ईरानी को खुद के मंत्रालय के बारे में भी सही से जानकारी नहीं है."

विवाद बढ़ने के बाद मांगी माफी

अशोक चौधरी ने कहा, 'मैंने सिर्फ डियर शब्द नहीं बल्कि डियर स्मृति जी लिखा है, ये कोई बुरा शब्द नहीं. मैंने कोई गलत शब्द का इस्तेमाल नहीं किया है. चौधरी ने यह भी दावा किया कि 40 दिन पहले स्मृति ने खुद भी डियर शब्द का प्रयोग किया था.

हालांकि विवाद के तूल पकड़ने पर अशोक चौधरी ने माफी मांग ली. चौधरी ने कहा, "मैं कांग्रेस का सिपाही किसी महिला का अनादर नहीं कर सकता इसलिए अगर उन्हें आपत्ति हुई है, तो मैं सार्वजनिक रूप से माफी मांगता हूं. 

पढ़ें: ट्विटर पर स्मृति ईरानी और प्रियंका चतुर्वेदी की जंग

लेकिन जानता हूं न तो ये शब्द अनादर का है, न ही आपत्तिजनक. फिर भी उन्होंने इस पर आपत्ति जताई, इसलिए अगर उन्हें ठेस लगी है, तो मैं क्षमा मागता हूं. वो महिला हैं, देश की शिक्षा मंत्री हैं, उनको अगर ठेस पंहुची है, तो हम क्षमा मांगते हैं."

प्रियंका चतुर्वेदी का तंज

ट्विटर पर चले इस विवाद में कांग्रेस की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी भी कूद पड़ीं. हाल ही में प्रियंका और स्मृति ईरानी के बीच जेड सुरक्षा को लेकर ट्विटर पर लंबी-चौड़ी तकरार हुई थी.

प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्वीट किया, "ओह डियर, उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सीएम उम्मीदवारी से नाम गायब. खबरों में कैसे बने रहना है? आसान! अब मुझ पर गुस्सा उतारो!"

पढ़ें: इन 6 वजहों से स्मृति ईरानी नहीं बन पाएंगी यूपी की सीएम उम्मीदवार

First published: 15 June 2016, 17:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी