Home » इंडिया » Two Kashmir journalists asked to leave army event for sitting during national anthem
 

जम्मू-कश्मीर: राष्ट्रगान के अपमान पर पत्रकारों को बाहर निकाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2016, 17:24 IST
(कैच न्यूज)

जम्मू-कश्मीर में सेना के कार्यक्रम में राष्ट्रगान के वक्त खड़े नहीं होने पर दो पत्रकारों को कार्यक्रम से बाहर निकालने की खबर है. दोनों पत्रकार घाटी के अखबार में काम करते हैं.

यह मामला मंगलवार का है. दोनों स्थानीय पत्रकारों को शहर से दूर रंगरेथ में जम्मू-कश्मीर लाइट इनफैंट्री रेजिमेंटल सेंटर में ‘पासिंग आउट परेड’ के कार्यक्रम की कवरेज के लिए आमंत्रित किया गया था.

कार्यक्रम के दौरान जब राष्ट्रगान बजाया गया, तो ये दोनों पत्रकार बैठे रहे. जिसके बाद सेना के एक अधिकारी ने दोनों को ‘पासिंग आउट परेड’ के कार्यक्रम से बाहर जाने के लिए कहा. दैनिक अखबार कश्मीर रीडर और राइजिंग कश्मीर में काम करने वाले ये दोनों पत्रकार सेना के इस कार्यक्रम को कवर करने पहुंचे थे.

इन्हीं पत्रकारों में से एक कश्मीर रीडर के संवाददाता जुनैद नबी बजाज ने बताया, "सेना ने हमें इस कार्यक्रम को कवर करने के लिए बुलाया था, न कि इसमें हिस्सा लेने के लिए. जब राष्ट्रगान बजाया गया तो मैं अपनी खबर के लिए चीजें लिख रहा था. राष्ट्रगान खत्म होने पर कर्नल बर्न हमारे पास आए और हमें कार्यक्रम से जाने को कहा."

बजाज का आरोप है कि कर्नल बर्न ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया. बजाज ने कहा, "उन्होंने हमारे साथ दुर्व्यवहार किया. उन्होंने कहा कि यहां आपको छोड़कर सभी लोग राष्ट्रगान के लिए खड़े हुए. हमें आप जैसे लोगों की जरूरत नहीं है, इसलिए कृपया यहां से चले जाइए."

इस घटना की पुष्टि करते हुए श्रीनगर स्थित रक्षा प्रवक्ता कर्नल एनएन जोशी ने कहा कि उन्होंने देखा कि ये दो पत्रकार राष्ट्रगान बजाए जाते समय खड़े नहीं हुए. कर्नल जोशी ने कहा, "जब मैं उनसे बात कर रहा था, तो कर्नल बर्न आए और स्वाभाविक तौर पर आहत हुई भावना के अनुरूप उन पत्रकारों से जाने को कहा."

कर्नल जोशी ने कहा कि वह कर्नल बर्न के व्यवहार के प्रति खेद प्रकट करते हैं, लेकिन पत्रकारों को भी राष्ट्रगान और तिरंगे का सम्मान करना चाहिए था. बहरहाल उन्होंने सेना के उच्च अधिकारियों को घटना की जानकारी दे दी है.

First published: 25 May 2016, 17:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी