Home » इंडिया » Catch Hindi: udta punjab controversy and real data of drugs use in state
 

उड़ता पंजाब: चार साल में बरामद हुआ 3.8 करोड़ किलो ड्रग्स

शौर्ज्य भौमिक | Updated on: 21 June 2016, 14:40 IST

बॉलीवुड फिल्म उड़ता पंजाब को लेकर विवाद जारी है. सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी ने आम आदमी पार्टी से पैसे लेकर फिल्म बनाने का आरोप लगाकर मामले को राजनीतिक मोड़ दे दिया है. 

जबकि फिल्म के सह-निर्माता अनुराग कश्यप ने इस आरोप को गलत बताते हुए सभी राजनीतिक दलों से इस मामले पर राजनीति न करने की अपील की है. पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं.

'उड़ता पंजाब' पर बोले बेनेगल- फैक्ट्री में नहीं बनती हैं फिल्में

पंजाब में नशाखोरी की बढ़ती समस्या नई नहीं है. करीब पांच साल पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस समस्या को उठाया था. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद नवंबर, 2014 में अपने 'मन की बात' में इसका जिक्र कर चुके हैं.

विवाद के इतर आइए एक नजर डालें आंकड़ों पर:

3.8
करोड़

किलोग्राम

  • ड्रग्स पंजाब में 2011 से 2014 के बीच जब्त किया गया.
  • इस दौरान मिजोरम के बाद पंजाब ड्रग्स का दूसरा सबसे बड़ा बाजार रहा
  • पंजाब में अफीम, स्मैक, कोकीन, भांग, गाजा के अलावा मैंड्रॉक्स/कफ सिरप (कोरेक्स), ट्विन और मॉर्फिन इत्यादि जैसे नशे बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जाते हैं.
  • पंजाब सरकार के सोशल सिक्योरिटी डायरेक्टोरेट के अनुसार ये नशा ज्यादा किसान, मजदूर, पेशेवर, ड्राइवर, नौजवान (खास कर छात्र) इस्तेमाल करते हैं. 

51.6
%

  • राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार पंजाब में इतने प्रतिशत नौजवान नशा करते हैं.
  • राष्ट्रीय औसत 2.8 प्रतिशत है.
  • अमृतसर और लुधियाना भारत में नशाखोरी और नशे की तस्करी के दो प्रमुख केंद्र हैं.
उड़ता पंजाब पर सेंसर से खत्म नहीं होगी पंजाब की ड्रग्स समस्या

7,500
करोड़

रुपये

  • ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) के एक अध्ययन के अनुसार पंजाब में ओपिआयड ड्रग्स का सालाना खर्च.
  • इसमें से 6500 करोड़ रुपये हेरोइन पर खर्च किए जाते हैं.
  • ये राशि सरकार द्वारा नशा मुक्ति और पुनर्वास पर खर्च की जाने वाले राशि से सौ गुना से भी अधिक है.
  • औसतन हेरोइन का आदती व्यक्ति हर रोज 1400 रुपये नशे पर खर्च करता है.
  • अध्ययन के अनुसार औसतन 20 करोड़ रुपये नशाखोरी पर खर्च होते हैं. हालांकि पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री कहते हैं कि "मुझे इस आंकड़े पर संदेह है."
  • पिछले एक दशक में राज्य में नशे का प्रसार बहुत तेजी से बढ़ा है. दूसरी तरफ उसके इलाज और पुनर्वास का इंतजाम पर्याप्त नहीं है.
'उड़ता पंजाब से उड़ता मजाक तक...''उड़ता पंजाब' की गाली से नहीं 'राजनीतिक संदेश' से डर है

First published: 21 June 2016, 14:40 IST
 
शौर्ज्य भौमिक @sourjyabhowmick

संवाददाता, कैच न्यूज़, डेटा माइनिंग से प्यार. हिन्दुस्तान टाइम्स और इंडियास्पेंड में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी