Home » इंडिया » UIDAI blacklists centre that leaked Aadhaar receipt of cricketer MS Dhoni for 10 years
 

10 साल के लिए ब्लैकलिस्ट हुआ धोनी के 'आधार' से जुड़ी जानकारी लीक करने वाला सेंटर

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 March 2017, 14:50 IST
dhoni

महेंद्र सिंह धोनी के 'आधार' से जुड़ी जानकारी के ट्विटर पर लीक होने के मामले में सरकार ने कड़ी कार्रवाई की है. जिस सेंटर ने यह काम किया, उसे दस साल के लिए ब्लैकलिस्ट कर दिया गया है, साथ ही पूरे मामले की जांच भी जारी है.

महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी सिंह ने मंगलवार को इस पर कड़ी नाराजगी जताते हुए आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद से ट्विटर पर ही शिकायत की थी. मंत्री के संज्ञान में मामला आने के बाद माना जा रहा था कि सख्त कार्रवाई की जाएगी. हालांकि उस ट्वीट को बाद में हटा लिया गया था, लेकिन तब तक वह वायरल हो चुका था और कई लोग उसे सेव कर चुके थे.

आईटी मिनिस्ट्री के लिए भी यह मामला सोशल मीडिया पर शर्मिंदगी की वजह बन गया क्योंकि सोशल मीडिया पर लोगों ने इसके सहारे 'आधार' की सुरक्षा और डेटा लीक होने से जुड़े सवाल पूछने शुरू कर दिए थे.

UIDAI के CEO अजय भूषण पांडे ने कहा- हमने VLE (Village Level Entrepreneur) को बैन कर दिया है. इसी एजेंसी ने धोनी को आधार के लिए इनरोल किया था. कहा जा रहा है कि इसी एजेंसी की रसीद लीक हुई थी, जिसमें धोनी की निजी जानकारियां थीं. UIDAI किसी भी स्तर पर निजी जानकारियों को लीक करने के खिलाफ है. साथ ही उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी जिन्होंने धोनी की जानकारियों को ट्वीट किया था. e-Governance सर्विस के ट्विटर हैंडल CSCeGov से ये पोस्ट किया गया था. 

First published: 29 March 2017, 14:50 IST
 
अगली कहानी